S M L

नोएडा में सेक्टर 58 के पार्क में जुमे के दिन भारी पुलिस बल की तैनाती

गौतमबुद्धनगर के डीएम बृजेश नारायण सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि पार्क में नमाज पढ़ना गैरकानूनी है

Updated On: Dec 28, 2018 09:27 PM IST

Bhasha

0
नोएडा में सेक्टर 58 के पार्क में जुमे के दिन भारी पुलिस बल की तैनाती

नोएडा के सेक्टर-58 के पार्क में नमाज अदा करने पर जारी विवाद के मद्देनजर पार्क में धार्मिक गतिविधियों पर रोक लगने के बाद शुक्रवार को वहां सिर्फ दस-बारह लोग ही नमाज पढ़ने पहुंचे लेकिन पार्क के जलमग्न होने के कारण वह लौट गए.

इस महीने की शुरुआत में नोएडा पुलिस ने आदेश जारी किए थे कि सरकारी प्लॉट में जुमे की नमाज नहीं पढ़ी जा सकती क्योंकि इसके लिए उन्हें जरूरी इजाजत नहीं है. शुक्रवार को पार्क के बाहर एक दमकल भी तैनात किया गया था.

स्थानीय प्रशासन ने पार्क में पानी डाल दिया था. यहां पिछले कुछ साल से जुमे के नमाज पढ़ी जाती थी जिसमें सैकड़ों लोग शामिल होते थे.

पुलिस उपाधीक्षक (नगर) राजीव कुमार सिंह ने बताया कि पार्क में नमाज पढ़ने को लेकर चल रहे विवाद के मद्देनजर वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया.

उन्होंने बताया कि पार्क में नमाज पढ़ने की इजाजत जिला प्रशासन द्वारा नहीं दी गई थी. इस वजह से शांति व्यवस्था कायम करने के लिए वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था.

सीओ ने बताया कि पुलिस ने वहां पर नमाज पढ़ने वाले लोगों को पहले ही हिदायत दे दी थी कि पार्क में नमाज पढ़ना गैरकानूनी है जिसकी वजह से ज्यादातर लोग नमाज पढ़ने वहां नहीं आए.

उन्होंने बताया कि नोएडा प्राधिकरण ने विवादित पार्क में पानी भर दिया जिसकी वजह से वहां पर नमाज पढ़ने की जगह नहीं बची.

पार्क में नमाज के आयोजकों में से एक आदिल रशीद ने बताया कि इस पार्क में 2013 से जुमे की नमाज अदा की जा रही थी. रशीद ने बताया कि उन्होंने बृहस्पतिवार को नमाजियां से अपील की थी कि वे नमाज पढ़ने पार्क में नहीं जाएं.

नमाज पढ़ाने वाले पेश इमाम नोमान अख्तर ने भी उन्हें बताया था कि वह वहां जुमे की नमाज की इमामत नहीं करेंगे.

पिछले पांच साल से वहां नमाज पढ़ने आ रहे मोहम्मद मुश्ताक खान ने बताया, 'बस आज और पिछले जुमे को ही पार्क में पानी डाला गया था. पहले, पाक के कोने में वुजू के लिए पानी का इंतजाम रहता था.'

वहां नमाज अदा करने आए 27 वर्षीय मेराज अहमद ने बताया कि आधे घंटे के भोजनावकाश के दौरान जुमे की नमाज के लिए मस्जिद खोजने दूर जाना संभव नहीं है.

नोएडा प्राधिकरण के उद्यान विभाग के उपनिदेशक महेन्द्र प्रकाश ने पार्क में पानी भरने के बाबत पूछने पर बताया कि उद्यान विभाग ने पार्कों में सिंचाई की है. यह नियमित कार्य है. पार्कों का संचालन व रखरखाव उद्यान विभाग ही करता है.

गौतमबुद्धनगर के डीएम बृजेश नारायण सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि पार्क में नमाज पढ़ना गैरकानूनी है.

वहीं नोएडा प्राधिकरण ने कहा कि नोएडा के पार्कों में नमाज पढ़ने की अनुमति देने का नियम नहीं है. वहीं पार्क में नमाज पढ़ने वाले लोगों ने जिला प्रशासन से पार्क में नमाज अदा करने की अनुमति मांगी थी लेकिन जिला प्रशासन ने देने से इनकार कर दिया.

इस बीच, नोएडा सिटी 2 के क्षेत्राधिकारी राजीव कुमार ने कहा, 'हमने उनसे कहा है कि उचित प्रक्रिया अपनानी होगी, मतलब यह कि प्रशासन से इजाजत लें और फिर हमें कोई समस्या नहीं होगी. वे इसके लिए राजी हो गए.'

हिंदू युवा वाहिनी के जिला अध्यक्ष चैनपाल भाटी ने कहा कि सरकार की मंशा किसी की धार्मिक भावना आहत करने की नहीं है.

फेडरेशन ऑफ नोएडा रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन्स के अध्यक्ष एनपी सिंह ने कहा कि किसी सार्वजनिक जमीन पर कोई गतिविधि सरकारी इजाजत से ही होनी चाहिए.

मालूम हो कि सेक्टर 58 के पार्क में नमाज पढ़ने को लेकर कुछ हिंदू संगठनों ने विरोध जताया था. उसके बाद नोएडा पुलिस ने सेक्टर 58 की 22 कंपनियों को नोटिस भेजकर उनके यहां काम करने वाले कर्मचारियों को पार्क में नमाज पढ़ने से रोकने की हिदायत दी थी.

(तस्वीर प्रतीकात्मक है)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi