live
S M L

बजट में डिजिटल ट्रांजैक्शन पर मिले टैक्स में राहत: देना बैंक

देना बैंक ने आने वाले बजट में डिजिटल लेन-देन करने वाले ग्राहकों और व्यापारियों के लिए टैक्स में छूट की हिमायत की है.

Updated On: Jan 14, 2017 10:49 AM IST

FP Staff

0
बजट में डिजिटल ट्रांजैक्शन पर मिले टैक्स में राहत: देना बैंक

देना बैंक ने आने वाले बजट में डिजिटल लेन-देन करने वाले ग्राहकों और व्यापारियों के लिए टैक्स में छूट की हिमायत की है. देना बैंक अगले हफ्ते मोबाइल वॉलेट लॉन्च करने वाली है.

देना बैंक के चेयरमैन अश्विनी कुमार ने कहा, 'हम वैसे ग्राहकों और व्यापारियों के लिए टैक्स में छूट चाहते हैं जो डिजिटल लेन-देन करते हैं. यह छूट इनकम टैक्स और सर्विस टैक्स में छूट के रूप में मिलना चाहिए.' उन्होंने बैंकों को एनपीए संबंधी नियमों में भी टैक्स में राहत देने की वकालत की.

नोटबंदी के बाद जब डिजिटल ट्रांजैक्शन का दौर चल रहा है, उस वक्त बैंक द्वारा मोबाइल वॉलेट को लेकर आगे की योजना के बारे में उन्होंने कहा, 'हमारा मोबाइल वॉलेट सप्ताह भर के भीतर शुरू हो जाएगा. हमारा जियो से समझौता हुआ है.'

पढ़ें: केंद्रीय बजट 2017 से जुड़ी हर खबर

उन्होंने कहा कि हम पहले ही कर्ज की दरों में 0.75 फीसदी की कटौती कर चुके है. हम अन्य कारणों को ध्यान में रखते हुए कर्ज की दरों में और कटौती कर सकते हैं.

note (1)

नोटबंदी के बाद सरकार ने कैश ट्रांजैक्शन को कम करने और डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने का काफी प्रयास किया है. सरकार ने डिजिटल ट्रांजैक्शन करने वालों लोगों के लिए लाटरी निकालना शुरू किया है.

नोटबंदी के बाद डिजिटल ट्रांजैक्शन में काफी बढ़ोत्तरी 

हालांकि नोटबंदी के बाद मोबाइल वॉलेट, यूएसएसडी और रुपे जैसे डिजिटल पेमेंट के चैनलों में काफी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार यूएसएसडी देन-देन में इस दौरान 5,135 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई. 8 नवंबर को यूएसएसडी के जरिए 97 डील हुई थी जो 25 दिसंबर को बढ़कर 5,078 हो गई थी.

इसी अवधि में रुपए में ट्रांजैक्शन के लिहाज से यूएसएसडी के जरिए ट्रांजैक्शन में 4,061 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है. यह 1 करोड़ रोजाना से बढ़कर 46 करोड़ रोजाना हो गई. बैंकों की सेवाओं में मोबाइल कोड का इस्तेमाल यूएसएसडी ट्रांजेक्शन में होता है. यह फीचर फोन से भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

30 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी ने तेज और सुरक्षित कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए भीम नामक ऐप लॉन्च किया है. भीम ऐप से यूपीआई और यूएसएसडी पेमेंट के तरीके को फीचर और स्मार्ट फोन, दोनों के लिए आसान बनाया जा रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi