S M L

डॉक्टरों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी, सफदरजंग अस्पताल में आपातकालीन सेवाएं प्रभावित

सफदरजंग हॉस्पीटल में इलाज कराने आए दिल्ली पुलिस के हेडकांस्टेबल के बेटे द्वारा एक रेजीडेंट डॉक्टर से मारपीट किए जाने वाली घटना से नाराज डॉक्टरों ने हड़ताल शुरू कर दी थी

Updated On: Jan 14, 2019 05:21 PM IST

FP Staff

0
डॉक्टरों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी, सफदरजंग अस्पताल में आपातकालीन सेवाएं प्रभावित

दिल्ली के सफदरगंज हॉस्पीटल में रेजिडेंट डॉक्टरों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही. आरडीए अध्यक्ष, डॉ.पी ठाकुर ने कहा, 'हम प्रशासन से मिले हैं, लेकिन वो हमारी सुरक्षा बढ़ाने के बारे में सकारात्मक नहीं दिख रही. वरिष्ठ चिकित्सक काम कर रहे हैं और मरीजों की देखभाल कर रहे हैं, सब कुछ ठीक चल रहा है.'

बीते रविवार सफदरजंग हॉस्पीटल में इलाज कराने आए दिल्ली पुलिस के हेडकांस्टेबल के बेटे द्वारा एक रेजीडेंट डॉक्टर से मारपीट किए जाने वाली घटना से नाराज डॉक्टरों ने हड़ताल शुरू कर दी थी. इसके चलते हॉस्पीटल की आपातकालीन सेवाएं प्रभावित रहीं.

मरीज और डॉक्टर के बीच पहले इलाज ना करने को लेकर हुई थी बहस

पुलिस के मुताबिक, सफदरजंग पुलिस थाने में तैनात हेड कांस्टेबल विनोद के बेटे अक्षय (24) को रविवार की सुबह पेट दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल ले जाया गया था. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि अक्षय और ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर के बीच पहले इलाज न करने को लेकर बहस हो गई.

उन्होंने कहा कि इससे नाराज अक्षय ने डॉक्टर को घूंसा मार दिया जिससे उसके नाक पर चोट लग गई. घटना के फौरन बाद आरोपी मौके से फरार हो गया. रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन (आरडीए) के एक सदस्य ने कहा कि आपातकालीन ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने मरीज का दर्द कम करने की कोशिश की लेकिन उसको फायदा नहीं हुआ. एक वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा, 'ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट डॉक्टर जब मरीज का अल्ट्रासाउंड कराने के लिए फॉर्म भर रहा था तभी अक्षय ने अपशब्द कहना शुरू कर दिया.'

उन्होंने कहा कि ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर हमले में बेहोश हो गया और उसकी नाक टूट गई. रेजिडेंट डॉक्टर अभी निगरानी में हैं. हमने मामले में एफआईआर दर्ज कराई है.' पुलिस ने कहा कि हेड कांस्टेबल विजय और घटना के वक्त ड्यूटी पर मौजूद कांस्टेबल को डिस्ट्रिक लाइन्स स्थानांतरित कर दिया गया है. वहीं मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं. घटना के विरोध में डॉक्टर काम से दूर हैं और इस वजह से मरीजों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi