S M L

वायरल तस्वीर देखकर पसीजे सोशल मीडिया यूजर्स, पीड़ित परिवार के लिए जुटाए 50 लाख

37 साल के अनिल की बीते 14 सितंबर को डाबरी इलाके में दिल्ली जल बोर्ड के सीवर में उतरकर सफाई करने के दौरान मौत हो गई थी

Updated On: Sep 19, 2018 05:22 PM IST

FP Staff

0
वायरल तस्वीर देखकर पसीजे सोशल मीडिया यूजर्स, पीड़ित परिवार के लिए जुटाए 50 लाख

दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) सीवर की सफाई करते हुए अपनी जान गंवाने वाले शख्स के परिवार की मदद के लिए सोशल मीडिया पर लोग आगे आए हैं. लोगों ने परिवार की पीड़ा को समझते हुए अभी तक लगभग 50 लाख रुपए जुटाए हैं. इक्टठा की गई यह रकम परिवारवालों को दी जाएगी.

37 साल के अनिल की बीते 14 सितंबर को सीवर में उतरकर सफाई करने के दौरान मौत हो गई थी.

अनिल अपनी पत्नी रानी और तीन बच्चों के साथ डाबड़ी एक्सटेंशन में एक किराए के कमरे में रहते थे. इस घटना के सामने आने से 6 दिन पहले ही उनके 4 महीने के बेटे की निमोनिया की वजह से मौत हुई थी. एक हफ्ते के भीतर दो-दो मौत से परिवारवालों पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा.

Delhi Sewer Death Viral Photo

(फोटो साभार: हिंदुस्तान टाइम्स)

अनिल के शव के पास उसकी बेटी की बिलखती हुई तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई. हिंदुस्तान टाइम्स के एक फोटोग्राफर की ली गई इस तस्वीर के साथ लिखा था, 'परिवार के पास सीवर की सफाई के दौरान मरने वाले अनिल के अंतिम संस्कार तक के लिए पैसे नहीं हैं.' इसी के साथ लोगों से परिवार की मदद की अपील की गई.

इस पोस्ट देखने के बाद सैकड़ों लोग मदद के लिए आगे आए और देखते ही देखते बुधवार सुबह तक 50 लाख रुपए के करीब जमा हो गए. उन्होंने दिए गए अनिल की पत्नी रानी के खाते में यह पैसा जमा कराया.

रानी ने कहा कि इस रकम से वो अपने बच्चों की पढ़ाई-लिखाई करवाएगी. साथ ही उनकी बेहतर परवरिश में भी इससे मदद मिलेगी.

राहुल गांधी ने PM मोदी के 'स्वच्छ भारत अभियान' पर कसा तंज

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले में वायरल तस्वीर देखकर मोदी सरकार के 'स्वच्छ भारत अभियान' पर कटाक्ष किया. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'देश भर में हजारों लोगों की सीवर में सफाई के दौरान मौत हो जो रही है लेकिन प्रधानमंत्री इसपर आंख मूंदे बैठे हैं.'

बीते 25 साल में सीवर की सफाई के दौरान 634 सफाईकर्मियों की हुई मौत

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग (एनसीएसके) के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 1993 से अब तक देश भर में सेप्टिक टैंकों और सीवरों की मैनुअल तरीके से सफाई के दौरान 634 सफाई कर्मचारियों की जान गई है. अकेले दिल्ली में ही इस दौरान 33 लोगों की मौत हुई है.

बीते हफ्ते दिल्ली में दो अलग-अलग घटनाओं में सीवर की सफाई के दौरान 6 सफाईकर्मियों की मौत हुई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi