S M L

#DelhiDoesn'tCare: दिल्ली को गैस चैंबर बनाकर ही माने लोग, तय समय-सीमा के बाद भी फोड़े पटाखे

देश की राजधानी दिल्ली में उम्मीद की जा रही थी कि प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए दिवाली के दिन पटाखे शायद कम फोड़े जाएंगे

Updated On: Nov 08, 2018 11:14 AM IST

FP Staff

0
#DelhiDoesn'tCare: दिल्ली को गैस चैंबर बनाकर ही माने लोग, तय समय-सीमा के बाद भी फोड़े पटाखे

देश की राजधानी दिल्ली में उम्मीद की जा रही थी कि प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए दिवाली के दिन पटाखे शायद कम फोड़े जाएंगे. लेकिन हुआ इसके एक दम उलट और दिल्लीवासियों ने बुधवार को शोर-शराबे वाली दीपावली मनाने का रास्ता चुना. सुप्रीम कोर्ट द्वारा पटाखा छोड़ने के लिए निर्धारित रात 8 से 10 बजे की समय-सीमा के बाद भी राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों में लोग आतिशबाजी करते नजर आए.

कोर्ट द्वारा तय की गई समय-सीमा का उल्लंघन किए जाने की बात स्वीकार करते हुए दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'हम हालात की निगरानी कर रहे हैं.' अधिकारी ने कहा, 'उल्लंघन के छिटपुट मामले हुए हैं. कुछ इलाकों में लोग रात आठ से 10 बजे की समय-सीमा के बाद भी पटाखे फोड़ते नजर आए. उल्लंघन के ऐसे मामलों की ठीक-ठीक संख्या का पता लगाया जाना बाकी है. हालांकि, हम उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे.' उन्होंने कहा कि वे उल्लंघनों पर रोक लगाने के लिए लगातार शहर में गश्त लगा रहे हैं.

दिवाली के दिन पटाखे तय समय-सीमा के बाद भी पटाखे फोड़ने का असर अब बढ़े हुए प्रदूषण के रूप में दिख रहा है. दिवाली के अगले दिन दिल्ली स्मॉग की चादर में लिपटी हुई नजर आ रही है. राजधानी के कई इलाकों में हवा की गुणवत्ता 'बेहद खराब' की श्रेणी में आ गई है.

आनंद विहार में गुरुवार सुबह एयर क्वालिटी इंडेक्स 999 दर्ज किया गया है, जो कि 'बेहद खराब' की श्रेणी में आता है. वहीं यूएस एम्बेसी के आसपास के इलाके और चाणक्यपुरी में AQI 459 और मेजर ध्यान चंद स्टेडियम के आसपास के इलाके में भी AQI 999 था. जो कि 'बेहद खराब' की श्रेणी में ही आता है. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, दिल्ली यूनिवर्सिटी के नॉर्थ कैंपस में पीएम 2.5 का लेवल 2000 तक पहुंच गया था.

FirstCutByManjul08112018

(एजेंसी से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi