S M L

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की गांधीगीरी, नियम तोड़ने वालों के लिए गुलाब

नियम तोड़ने वाले लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस पहले चलान करती थी, लेकिन अबकी बार दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस गांधीगिरी करते देखी गई

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Jan 10, 2017 11:13 PM IST

0
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की गांधीगीरी, नियम तोड़ने वालों के लिए गुलाब

राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के पहले ही दिन दिल्ली पुलिस गांधीगीरी करती दिखी. दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस ने नियमों को तोड़ने वाले वाहन चालकों को फूल देकर ठीक से गाड़ी चलाने की नसीहत दी. दिल्ली में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जा रहा है.

सोमवार को दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस ने बिना चालान काटे सैकड़ों लोगों को नसीहत देकर छोड़ा. नियम तोड़ने वाले लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस पहले चालान करती थी, लेकिन इस बार दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस गांधीगीरी करते देखी गई.

राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के पहले दिन पुलिस ने लोगों को जागरूक किया. पुलिस ने सड़क पर नियमों की अनदेखी करने वाले लोगों का बिना चालान काटे दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने गुलाब का फूल भेंट कर नियमों का पालन करने की नसीहत दी. दिल्ली पुलिस के इस कदम से कई लोगों ने शर्मिंदा होकर अपनी गलती मानी.

पहले तीन घंटे में 175 लोगों ने यातायात नियम तोड़े

साउथ दिल्ली में पहले तीन घंटे में ही 175 लोगों ने ट्रेफिक के नियमों का पालन नहीं किया. ट्रैफिक पुलिस की कांस्टेबल सुनीता, सुमिता और सरोजआईआईटी फ्लाईओवर के पास नियम न पालन करने वालों को फूल दे रही थीं. ट्रैफिक इंस्पेक्टर गिरीश कुमार सिंह लोगों को समझा रहे थे कि ट्रैफिक के नियमों का पालन नहीं कर वे और राहगीरों की भी जीवन खतरे में डाल रहे हैं

नियम तोड़ने वालों के पास कई बहाना

सड़क पर कई लोग सीट बेल्ट के बिना व हैलमेट के बिना भी नजर आए. साथ ही जब पुलिस ने उनको पकड़ा तो पहले तो वो अपनी गलती मानने को तैयार ही नहीं हुए लेकिन जब पुलिस ने चालान न काटकर उनको फूल भेंट किया तो कई लोग खासे शर्मिंदा भी हुए साथ ही पुलिस के इस रवैये से काफी आश्चर्य चकित भी हुए. कई लोग तो ये कहते दिखे कि जल्दबाजी में हेल्मेट घर पर छोड़ आए तो कईयों ने कहा कि एक ही जगह तीन लोगों को जाना था इसलिए बाइक पर बैठ गए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi