S M L

बड़े भाई को नशे की लत से बाहर लाने की कोशिश में खुद की जान गंवा बैठा युवक

शिशुपाल की पत्नी का कहना है कि दोनों भाईयों के बीच काफी बार बहस हुई लेकिन इस तरह से लड़ाई कभी नहीं हुई

Updated On: Jul 22, 2018 02:21 PM IST

FP Staff

0
बड़े भाई को नशे की लत से बाहर लाने की कोशिश में खुद की जान गंवा बैठा युवक

अक्सर हम अपनों को किसी बुरी लत से पीछा छुड़वाने के लिए हर मुमकिन कोशिश करते हैं. लेकिन यह कभी नहीं सोचते की हमारी यह कोशिश जान की दुश्मन भी बन सकती है. दिल्ली के आनंद पर्वत इलाके में 34 साल का शिशुपाल रोजाना शराब के नशे डूब कर घर में हंगामा करता था. इतना ही नहीं वो घर में सिगरेट भी पिता था, जो अन्य घर वालों की सेहत पर भी बुरा असर डालती थी. छोटा भाई सत्यदेव अपने बड़े भाई शिशुपाल को काफी समझाने की कोशिश करता पर हर बार नाकाम रहता.

अस्पताल ने दी पुलिस को जानकारी

ऐसे में बुधवार को जब सत्यदेव ने दोबारा शिशुपाल को नशे की हालत में देखा तो घर में हंगामा मचा दिया. जिसके बाद शिशुपाल ने अपने जूते के फीते से उसकी गला घोंट कर हत्या कर दी. इसके बाद सत्यदेव को नजदीक के प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी.

अस्पताल ने इस बारे में पुलिस को जानकारी दी. डीसीपी मंदीप सिंह रंधावा ने बताया कि मामले की जांच के लिए पटेल नगर के एसीपी रोहित सिंह राजबीर को नियुक्त किया गया है. जानकारी के मुताबिक सूचना मिलने पर पुलिस ने शिशुपाल को गिरफ्तार किया और वारदात वाले दिन के बार में पूछताछ की.

शिशुपाल ने कबूला जुर्म

पुलिस के काफी बार पूछने पर शिशुपाल ने अपना जुर्म कबूला और पूरी घटना के बारे में बताया. शिशुपाल ने बताया कि दोपहर 2.20 पर वह हाथ में सिगरेट लेकर घर में घुसा तो सत्यदेव ने उसे कमरे में बुलाया. देखते ही देखते दोनों की बातचीत झगड़े में बदल गई. शिशुपाल ने उस पर हमला करने के लिए यहां वहा कुछ ढूंढा और आखिर में अपने जूते के फीते से उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी.

शिशुपाल की पत्नी का कहना है कि दोनों भाईयों के बीच काफी बार बहस हुई लेकिन इस तरह से लड़ाई कभी नहीं हुई. पुलिस ने कहा कि आनंद पर्वत पुलिस स्टेशन में शनिवार को एफआईआर दर्ज कर ली गई है.  वहीं जूते के फीते को भी बरामद कर लिया गया है. फिलहाल इस मामले की जांच जारी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi