S M L

बिना वेतन किसी भी कर्मचारी से काम लेना सभ्य समाज की भावना के खिलाफ: दिल्ली हाईकोर्ट

यह मामला लोनी रोड स्थित सिद्धार्थ इंटरनेशनल स्कूल का है. जहां के सात शिक्षकों ने स्कूल प्रशासन पर यह आरोप लगाया है कि उन्हें अप्रैल 2018 से वेतन नहीं दिया गया है

Updated On: Sep 10, 2018 04:04 PM IST

FP Staff

0
बिना वेतन किसी भी कर्मचारी से काम लेना सभ्य समाज की भावना के खिलाफ: दिल्ली हाईकोर्ट
Loading...

दिल्ली हाईकोर्ट ने सात शिक्षकों को पांच महीने से वेतन न दिए जाने संबंधी एक मामले की सुनवाई करते हुए बेहद ही भावनात्मक टिप्पणी की है. कोर्ट ने कहा कि किसी भी कर्मचारी से बिना वेतन काम लेना किसी भी सभ्य समाज की भावना के विरुद्ध है.

यह मामला लोनी रोड स्थित सिद्धार्थ इंटरनेशनल स्कूल का है. जहां के सात शिक्षकों ने स्कूल प्रशासन पर यह आरोप लगाया है कि उन्हें अप्रैल 2018 से वेतन नहीं दिया गया है. यहां तक की प्रशासन ने छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को भी लागू नहीं किया है. सबसे बड़ी बात तो यह है कि इन सात शिक्षकों के अलावा स्कूल में कार्यरत 60 कर्मचारियों को पांच महीने से वेतन नहीं दिया गया है.

मामले को संज्ञान में लेते हुए न्यायधीश सी.हरिशंकर ने स्कूल को नोटिस जारी कर के दो हफ्ते के अंदर जवाब मांगा है. मामले की अगली सुनवाई अक्टूबर में है.

इसके पूर्व एमसीडी के शिक्षकों को भी मई के महीने से सैलरी ना मिलने की बात उटी थी. यह मामला कोर्ट तक पहुंचा. फिर कोर्ट ने अगले महीने 10 सितंबर से पहले सभी एमसीडी के शिक्षकों को अब तक का वेतन देने का निर्देश दिया है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi