S M L

शोषण करने वाले बच्चों को निकाल सकते हैं मां-बाप: दिल्ली हाईकोर्ट

इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि प्रॉपर्टी माता-पिता की है या नहीं.

FP Staff Updated On: Mar 16, 2017 03:08 PM IST

0
शोषण करने वाले बच्चों को निकाल सकते हैं मां-बाप: दिल्ली हाईकोर्ट

दिल्ली हाईकोर्ट ने सीनियर सिटीजंस की सुरक्षा को लेकर नया आदेश जारी किया है. इस आदेश के तहत माता-पिता अगर घर में अपने बच्चों के शोषण का शिकार हैं, तो वो उन्हें घर से बाहर निकाल सकते हैं.

कोर्ट के इस आदेश में एक राहत ये है कि जरूरी नहीं कि घर माता-पिता का हो, अगर उस प्रॉपर्टी पर वो कानूनी रूप से रह रहे हैं तो भी वो ये कदम उठा सकते हैं.

ये आदेश शराब की लत से जूझ रहे एक शख्स की याचिका पर सुनवाई के बाद आया. ये याचिका एविक्शन ऑर्डर के विरोध में दायर की गई थी. इस याचिका में कहा गया था कि संतानों को घर से तभी निकाला जा सकता है, जब घर पर माता-पिता का कानूनी अधिकार हो.

ये आदेश 2007 में आए मेंटेनेंस एंड वेलफेयर ऑफ पैरेंट्स एंड सीनियर सिटीजंस एक्ट (MWPSCA) से आगे जाकर एक बड़ा कदम है. इस कानून के तहत सीनियर सिटीजंस और उनके संपत्ति की सुरक्षा के लिए नियम बनाने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों पर छोड़ दी गई थी.

MWPSCA की धाराओं की व्याख्या करते हुए जस्टिस मनमोहन ने कहा कि ‘सीनियर सिटीजंस मेंटेनेंस ट्रिब्यूनल मानसिक और शारिरिक तौर पर प्रताड़ित करने वाले बेटे, बेटी या बहू के साथ रहने को मजबूर सीनियर सिटीजंस की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए घर से बाहर निकालने का ऑर्डर जारी कर सकता है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi