S M L

उम्मीदवारों की ऊंची पढ़ाई लुभा सकती है वोटरों को: दिल्ली हाई कोर्ट

अदालत ने यह टिप्पणी बीजेपी के पूर्व विधायक करण सिंह तंवर की याचिका को खारिज करते वक्त की

Updated On: Apr 23, 2017 07:46 PM IST

Bhasha

0
उम्मीदवारों की ऊंची पढ़ाई लुभा सकती है वोटरों को: दिल्ली हाई कोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा है कि वोटर उम्मीदवार के शैक्षणिक योग्यता से प्रभावित हो सकते हैं और वह उच्च शैक्षणिक योग्यता वाले उम्मीदवार के पक्ष में मतदान करने को तरजीह दे सकते हैं.

अदालत ने यह टिप्पणी बीजेपी के पूर्व विधायक करण सिंह तंवर की याचिका को खारिज करते वक्त की. इस याचिका में उन्होंने आप विधायक ‘कमांडो’ सुरेंद्र सिंह के चुनाव को इस आधार पर खारिज करने की मांग की थी कि उन्होंने नामांकन पत्र में शिक्षा के संबंध में गलत जानकारियां देने की बात स्वीकार की है.

न्यायमूर्ति हिमा कोहली ने बीजेपी नेता की याचिका खारिज करते हुए सिंह के खिलाफ मुख्य चुनाव याचिका को लंबित रखा और कहा कि इसे फैसले के लिए पूर्ण सुनवाई प्रक्रिया से गुजरना होगा.

तंवर ने सिंह के खिलाफ अपनी याचिका में सरकारी बकाया की घोषणा नहीं करने, आर्थिक स्थिति और आयकर रिटर्न के बारे में जानकारी नहीं देने के साथ ही शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत जानकारी देने के आधार पर उनके निर्वाचन को चुनौती दी थी.

अदालत ने माना आप विधयक से भूल से हुई गलती  

आप विधायक ने अपने नामांकन पत्र में लिखा था कि उन्होंने सिक्किम विश्वविद्यालय से स्नातक किया है, हालांकि वह सिक्किम के ईआईआईएलएम विश्वविद्यायल से स्नातक हैं. उन्होंने दावा किया कि यह भूलवश हुई गलती थी.

अदालत ने आप विधायक के दावे से सहमति जताई कि जानबूझ कर गलत जानकारी मतदाताओं को लुभाने को लिए नहीं दी गई थी.

अदालत ने आप विधायक के पक्ष में फैसला देते हुए कहा कि तंवर का मामला इससे संबंधित नहीं है कि सिंह के पास स्नातक की डिग्री नहीं है या यह कि जिस वर्ष उन्होंने कोर्स पूरा होने की सूचना दी है, वह सही नहीं है. अदालत ने टिप्पणी की कि सिंह ने तीनों सालों की मार्कशीट लगाई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi