S M L

दिल्ली में बाढ़: कुछ ट्रेनों के रद्द होने के बाद लोहा पुल पर रेल सेवा बहाल

बाढ़ का खतरा देखते हुए प्रशासन ने यमुना किनारे रहने वाले लोगों को किसी सुरक्षित स्थान पर जाने का निर्देश दिया है. लोगों ने हटना शुरू भी कर दिया है लेकिन शेल्टर होम की कमी के कारण कई लोगों को सड़क किनारे रहना पड़ रहा है

FP Staff Updated On: Jul 30, 2018 12:22 PM IST

0
दिल्ली में बाढ़: कुछ ट्रेनों के रद्द होने के बाद लोहा पुल पर रेल सेवा बहाल

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में यमुना का पानी खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है. हालात पर नजर रखने के लिए अधिकारियों ने बाढ़ नियंत्रण कक्ष और आपात केंद्र बनाए है.

बाढ़ के खतरे को देखते हुए पुराने यमुना पुल पर ट्रैफिक बंद कर दिया गया था क्योंकि नदी का जलस्तर बढ़ गया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सरकार के आला अधिकारियों के साथ एक आपात बैठक बुलाई और हालात पर चर्चा की.

लोहा पुल पर कुछ ट्रेनों को रद्द किया गया तो कुछ के रूट बदले गए. फिलहाल इस मार्ग पर रेल सेवा बहाल कर दी गई है. उत्तर रेलवे के सीपीआरओ नितिन चौधरी ने बताया कि यमुना का जलस्तर सुरक्षित पाए जाने के बाद लोहा पुल पर रेल यातायात बहाल कर दी गई है. रेलवे अधिकारी लगातार नजर बनाए हुए हैं और पुल की हालत की समीक्षा कर रहे हैं.

उधर, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने रविवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक आपात बैठक बुलाई और भारी बारिश के बाद यमुना नदी में जलस्तर बढ़ने की समीक्षा की.

लोहा पुल के पास यमुना के पानी का स्तर 205.53 मीटर को छू गया है. खतरे को देखते हुए लोहा पुल पर ट्रैफिक बंद कर दिया गया है.

लोहा पुल बंद होने से रेल यातायात पर बुरा असर पड़ा है. 27 सवारी गाड़ियों को रद्द किया गया है, जबकि 7 ट्रेनों का रूट बदला गया है.

बाढ़ का खतरा देखते हुए प्रशासन ने यमुना किनारे रहने वाले लोगों को किसी सुरक्षित स्थान पर जाने का निर्देश दिया है. लोगों ने हटना शुरू भी कर दिया है लेकिन शेल्टर होम की कमी के कारण कई लोगों को सड़क किनारे रहना पड़ रहा है.

बाढ़ की मार झेल रहे एक व्यक्ति ने एएनआई से कहा, हमारे लिए क्या हो रहा है, हर कोई देख सकता है. बाढ़ आने के बाद जबसे हमने अपना घर छोड़ा है, हमें सरकार की ओर से कोई मदद नहीं मिल रही है. हमें सड़कों पर रहने के लिए यूं ही छोड़ दिया गया है.

एक दूसरे व्यक्ति ने कहा, लगभग सभी रैन-बसेरे भर गए हैं, इसलिए हमें सड़क पर रहना पड़ रहा है. सरकार ने हमें यमुना किनारे घर छोड़ने को कहा और हमने छोड़ दिया लेकिन हमारा कोई खयाल नहीं रखा जा रहा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi