Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

बच्चों से उनकी हंसी और बचपन छीन लेता है यौन उत्पीड़न : अदालत

बच्चे के दिल-ओ-दिमाग से यौन उत्पीड़न का घाव कभी नहीं भरता है, और यह उसके मन से हर अच्छी याद को खत्म कर देता है

Bhasha Updated On: Feb 14, 2018 07:40 PM IST

0
बच्चों से उनकी हंसी और बचपन छीन लेता है यौन उत्पीड़न : अदालत

दिल्ली की एक अदालत ने चार साल के बच्चे का यौन उत्पीड़न करने वाले व्यक्ति को 10 साल की सजा सुनाई. सजा सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि बच्चे के दिल-ओ-दिमाग से यौन उत्पीड़न का घाव कभी नहीं भरता है, और यह उसके मन से हर अच्छी याद को खत्म कर देता है.

जज सीमा मैनी ने उत्तरी दिल्ली के निवासी मनोज को कठोर कारवास देते हुए  30,000 रुपए का जुर्माना लगाया. जज सीमा ने जुर्माना लगाते हुए कहा, 'बच्चे का यौन उत्पीड़न उसकी पूरी शख्सियत पर गहरा घाव छोड़ता है. बेहतरीन चिकित्सीय सहायता के बाद भी ये घाव कभी नहीं भरते हैं. ये घाव किसी की खुशियों को नष्ट कर देते हैं. यह बच्चे की हर मुस्कान और अच्छी याद को खत्म कर देता है.'

अदालत ने पीड़ित बच्चे को जुर्माने की राशि में से 20,000 रुपए दिए जाने का आदेश दिया. साथ ही कोर्ट ने तीन लाख रुपए का मुआवजा अलग से भी स्वीकार किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi