S M L

2017 में दिल्ली में सेप्टिक टैंकों की सफाई ने ली 12 लोगों की जान

शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने लिखित जवाब में बताया कि 2017-18 में सेप्टिक टैंकों की सफाई के दौरान ऐसी 5 घटनाएं घटी जिनमें 12 लोगों की मौत हो गई

Updated On: Apr 01, 2018 01:37 PM IST

Bhasha

0
2017 में दिल्ली में सेप्टिक टैंकों की सफाई ने ली 12 लोगों की जान

दिल्ली सरकार ने विधानसभा में बताया कि पिछले साल सेप्टिक टैंकों की सफाई के दौरान शहर में 12 लोगों की मौत हो गई. वहीं इस साल ऐसी कोई घटना अब तक नहीं हुई है.

शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने पिछले हफ्ते एक लिखित जवाब में बताया कि 2017-18 में सेप्टिक टैंकों की सफाई के दौरान ऐसी 5 घटनाएं घटी जिनमें 12 लोगों की मौत हो गई थी. कोई भी पीड़ित नगर निगम या सरकार के किसी अन्य नगर निकाय से संबंधित नहीं था.

उन्होंने कहा कि धारा 29 (3) मैला ढोने वालों के रूप में रोजगार का निषेध और उनके पुनर्वास अधिनियम 2013 के तहत, हाथ से मैला ढोने वालों का सर्वेक्षण करने के लिए जिला स्तर पर सतर्कता समितियां बनाई गई हैं.

इसके अलावा, दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) इस संबंध में एक मानक परिचालन प्रक्रिया तैयार कर रहा है. शहरी विकास विभाग ने 11 जिलों में राज्य स्तर में निगरानी समिति और सर्तकता समितियों के गठन के लिए अधिसूचनाएं जारी की हैं.

Satyendra Jain

सत्येंद्र जैन

सेप्टिक टैंकों की सफाई मशीन से  होगी

डीजेबी ने सेप्टिक मैनेजमेंट रेगुलेशन, 2018 तैयार किया है जिसमें सेप्टिक टैंकों की मशीन से सफाई सुनिश्चित की गई है. दिल्ली कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद इसे सदन के सामने रखा जाएगा जिसके बाद इसे लागू किया जाएगा.

अपने जवाब में सत्येंद्र जैन ने जोर देकर कहा कि लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी), नई दिल्ली नगर निगम और तीनों नगर निगम सेप्टिक टैंकों की सफाई मशीनों से करेंगे.

जवाब के मुताबिक, पूर्वी दिल्ली नगर निगम के तहत नालियों की सफाई मशीनों से की जा रही है. इससे पीडब्ल्यूडी नाले की सफाई के दौरान आवश्यक सावधानियां सुनिश्चित करता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi