S M L

केरल में सदी की सबसे बड़ी त्रासदी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने में हैं कई पेच

पिछले साल संसद में गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू ने असम में बाढ़ के मुद्दे पर कहा था कि बाढ़ की समस्या को राष्ट्रीय आपदा घोषित करना समस्या का समाधान नहीं है

Updated On: Aug 20, 2018 06:33 PM IST

Kinshuk Praval Kinshuk Praval

0
केरल में सदी की सबसे बड़ी त्रासदी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने में हैं कई पेच

केरल से हजारों किमी दूर बैठे लोग भी तस्वीरों के जरिये केरल की बाढ़ की विभीषिका को समझ सकते हैं. तकरीबन 7 लाख लोग बेघर हो चुके हैं. पानी में फंसे 22 हजार से ज्यादा लोगों को बचाया जा चुका है. चार सौ से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. बाढ़ से हालात भयावह हैं. एनडीआरएफ और सेना के जवान जोश और मुस्तैदी के साथ बाढ़ में फंसी जिंदगियों को बचाने में जुटे हुए हैं.

केरल में भीषण बाढ़ से राज्‍य के 12 जिले प्रभावित हैं. अबतक कुल 8 हजार करोड़ रुपए के नुकसान की आशंका जताई जा रही है. इन सबके बीच केरल की बाढ़ को राजनीतिक दल राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग कर रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर केरल बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की है. राज्य सरकार की भी मांग है कि केरल में जल-कहर से मचे कोहराम को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाए.

Kerala Floods

केरल में आई भीषण बाढ़ का जायजा लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

ऐसे में सवाल उठता है कि फिर केंद्र सरकार को केरल में कुदरती कहर को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने में दिक्कत क्या है? दरअसल, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के मुताबिक किसी भी आपदा को राष्‍ट्रीय आपदा घोषित करने का कोई स्पष्ट कानूनी प्रावधान नहीं है.

साल 1999 में ओडिशा में भयंकर चक्रवात से कहर बरपा था. लेकिन तत्कालीन केंद्र सरकार ने उसे राष्ट्रीय आपदा नहीं माना था. इसी तरह साल 2001 में गुजरात में भीषण भूकंप आया. केंद्र सरकार ने उसे भी राष्ट्रीय आपदा घोषित नहीं किया. जबकि ये दोनों ही आपदाएं मानव निर्मित नहीं बल्कि कुदरती थीं. तत्कालीन केंद्र सरकार ने इन्हें अप्रत्याशित गंभीर आपदा भर माना था.

जब भी कोई राज्य किसी प्राकृतिक आपदा या कुदरत के कहर का शिकार होता है तो वो केंद्र सरकार से मदद मांगता है. जिसके बाद ये केंद्र की जिम्मेदारी होती है कि वो राज्य को आपदा से निपटने और उबरने में मदद करे. केंद्र मदद मांगने वाले राज्य को एनडीआरएफ, सेना, नौसेना, वायुसेना की मदद मुहैया कराता है.

Kerala Flood PM Modi Meeting

बाढ़ संकट पर केरल के मुख्यमंत्री और अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक करते हुए प्रधानमंत्री

अगर किसी दुर्घटना, आपदा या कुदरती तबाही के बाद राज्य का आपदा प्रबंधन कोष कम पड़ जाए तो फिर केंद्र सरकार उसे राष्ट्रीय आपदा घोषित कर सकती है. किसी आपदा को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने पर केंद्र सरकार को  राहत और बचाव कार्य के लिए सौ प्रतिशत अनुदान देना होता है.

केरल के संदर्भ में राष्ट्रीय आपदा का मुद्दा अब दिनों-दिन पीछे छूटता जा रहा है क्योंकि केरल में केंद्र सरकार ने शुरुआत से ही मोर्चा संभाला हुआ है. पीएम मोदी ने बाढ़ राहत कोष से 500 करोड़ के राहत-पैकेज का ऐलान किया तो वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी 100 करोड़ की राहत का ऐलान कर चुके हैं. एनडीआरएफ और सेना की टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हुई हैं. ऐसे में केरल को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने के लिये जानमाल के भारी नुकसान के बावजूद फिलहाल केंद्र सरकार किसी जल्दबाजी या फिर मजबूरी में दिखाई नहीं दे रही है. केरल में केंद्र सरकार राष्ट्रीय आपदा घोषित करने के बाद की जिम्मेदारियां और तैयारियां भी अभी से ही पूरा कर रही है.

kerala

आपदा से जुड़े मौजूदा कानून में देश में आई किसी भी आपदा से राष्ट्रीय आपदा के स्तर पर ही निपटने का निर्देश है. वैसे भी पिछले साल संसद में गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू ने असम में बाढ़ के मुद्दे पर कहा था कि बाढ़ की समस्या को राष्ट्रीय आपदा घोषित करना समस्या का समाधान नहीं है.

अमेरिका में किसी आपदा को अमेरिकी राष्ट्रपति ही राष्ट्रीय आपदा घोषित करते हैं. उस घोषणा के बाद ही फेडरल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी आपदा से निपटने की जिम्मेदारियां उठाती हैं. लेकिन भारत में आपदा से निपटने के लिये व्यवस्था बेहतर है. कोई भी आपदा राष्ट्रीय हो या न हो, केंद्र से जुड़ी संस्थाएं तुरंत ही राहत और बचाव कार्य में जुट जाती हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi