S M L

J&K: मृतक युवक की शोकसभा में हुर्रियत नेता गिलानी पर फूटा परिजनों का गुस्सा

सीआरपीएफ के वाहन के नीचे आकर मारे गए युवक कैसर के रिश्तेदार ने सैयद अली शाह गिलानी से कहा, 'अपने बच्चों को अंग्रेजी मीडियम में पढ़ाते हो, हमें रोकते हो'

FP Staff Updated On: Jun 05, 2018 05:40 PM IST

0
J&K: मृतक युवक की शोकसभा में हुर्रियत नेता गिलानी पर फूटा परिजनों का गुस्सा

जम्मू-कश्मीर के नौहट्टा इलाके में सीआरपीएफ के वाहन से कुचलकर मारे गए युवक कैसर के परिवारवालों का हुर्रियत नेताओं पर गुस्सा फूट पड़ा है.

कैसर के शोकसभा में उसके एक रिश्तेदार ने कहा, 'समा शाबिर (शब्बीर शाह की बेटी) जो कि डीपीएस में पढ़ती है, उसकी गिलानी साहब तारीफ करते हैं. मैं कभी उनके लिए जान देने के लिए तैयार रहता था. जो बोलते थे कि क्रिश्चियन स्कूलों में अपने बच्चों को मत भेजा करें, गिलानी साहब का बयान है यह और वही गिलानी साहब अब बोल रहे हैं, 'मैं बधाई देता हूं. यह (समा शब्बीर शाह) यूथ्स के लिए, स्टूडेंट्स के लिए रोल मॉडल है.'

रिश्तेदार ने कहा, 'कैसर जिनकी दो बहनें हैं उन्हें यह नहीं पता है कि शहादत क्या है? जिस बंदे को अपनी शहादत के बाद सुपुर्द-ए-खाक होना चाहिए, उसकी लाश को सड़क पर नुमाइश के लिए रखा है. क्या यह निजाम-ए-मुस्तफा (शरीयत की सरकार) है?'

उन्होंने कहा, 'यह तो निजाम-ए-मुस्तफा था ही नहीं कभी. उसने कहा कि बच्चे जो आपके पास आते हैं कैसे होते हैं? सिर्फ नारेबाजी होती है. अरे एक जवाब तो दीजिए कि आपकी लीडरशिप क्या कर रही है?' रिश्तेदार ने रुंधते गले से पूछा, 'उसने (कैसर) ने क्या किया था जो अब कब्र में है? ऐसे लाखों लोग हैं जो अब डरते हैं हुर्रियत के नाम से.'

बीते शुक्रवार को सीआरपीएफ के वाहन की चपेट में आकर कैसर गंभीर रूप से घायल हो गया था. इसके अगले दिन श्रीनगर में अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi