S M L

हाथ-पैर के बाल शेव या वैक्स करना शरिया कानून में गलत: दारुल उलूम

दारुल उलूम ने फतवा जारी कर वैक्सिंग और शेविंग के जरिए शरीर के बाल हटाने को तहजीब के खिलाफ बताया है

Updated On: Jul 20, 2018 05:10 PM IST

FP Staff

0
हाथ-पैर के बाल शेव या वैक्स करना शरिया कानून में गलत: दारुल उलूम

देवबंद से जुड़े मदरसे दारुल उलूम ने फिर एक और अजीबोगरीब फतवा जारी किया है. इस फतवे में वैक्सिंग और शेविंग के जरिए शरीर के बाल हटाने को तहजीब के खिलाफ बताया गया है. इसे शरिया कानून के तहत सही नहीं बताया हया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार, अब्दुल अजीज़ नाम के एक स्थानीय व्यक्ति ने पूछा था कि एक पुरुष या महिला का हाथ-पैरों के बाल शेव या वैक्स करना सही है या नहीं. इस पर उलूम के फतवा विभाग ने जवाब दिया कि बगलों (आर्मपिट), मूंछों और नाभि से नीचे के हिस्सों के बाल हटाने के अलावा शरीर के नीचे के बाल वैक्स या शेव करने की शरिया के अंदर सही नहीं है. ये खिलाफ-ए-अदब है.

इस आपत्तिजनक फतवे पर देवबंद के मौलाना सलीम अशरफ क़ासमी ने कहा कि शरिया के हिसाब से फतवा बिल्कुल सही है. इस पर ध्यान देने की जरूरत है कि दारूल उलूम ने इसको खिलाफ-ए-अदब यानी तहजीब के खिलाफ कहा है, हराम यानी कहा है.

दारूल उलूम के इस अटपटे बयान से पहले पिछले हफ्ते ही कुछ और अजीब बातें कही थीं. उलूम ने कहा था कि किसी अजनबी व्यक्ति से मेहंदी लगवाना शरिया के अंदर सही नहीं है. इतना ही नहीं उलूम ने मुस्लिम महिलाओं को चूड़ी बेचने वालों के हाथ से चूड़ी पहनने से भी मना किया है क्योंकि ये शरिया से के हिसाब से बहुत बड़ा गुनाह है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi