S M L

कैमरे में रोहिंग्या संकट कैद करने वाले इस फोटो जर्नलिस्ट को पुलित्जर अवॉर्ड

दानिश सिद्दीकी ने पिछले साल अक्टूबर में म्यांमार से जान बचाकर बांग्लादेश भागकर आने वाले रोहिंग्या शरणार्थियों के विस्थापन के मर्म को अपनी शानदार फोटोग्राफी के जरिए दुनिया के सामने लाया था

FP Staff Updated On: Apr 18, 2018 05:21 PM IST

0
कैमरे में रोहिंग्या संकट कैद करने वाले इस फोटो जर्नलिस्ट को पुलित्जर अवॉर्ड

मुंबई बेस्ड फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी को प्रतिष्ठित ग्लोबल पुलित्जर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है. दानिश सिद्दीकी को रोहिंग्या शरणार्थियों पर उनके खींची तस्वीरों के लिए यह पुरस्‍कार दिया गया है. उन्हें फीचर फोटोग्राफी की कैटेगरी में यह अवॉर्ड मिला है.

दिल्ली के रहने वाले दानिश सिद्दीकी अंतरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के फोटोग्राफर हैं. उन्होंने पिछले साल अक्टूबर में म्यांमार से जान बचाकर बांग्लादेश भागकर आने वाले रोहिंग्या शरणार्थियों के विस्थापन के मर्म को अपनी शानदार फोटोग्राफी के जरिए दुनिया के सामने लाया था.

दिल्‍ली यूनिवर्स‍िटी (डीयू) से मास कम्‍यूनिकेशन की पढाई करने वाले द‍ानिश रॉयटर्स के लिए मुंबई में काम करते हैं. फोटोग्राफर बनने से पहले वो टीवी रिर्पोटर थे. उन्होंने फोटोग्राफर के तौर पर साउथ एशिया, मिडिल ईस्‍ट, अफगानिस्‍तान और इराक युद्ध, रोहिंग्‍या शरणार्थी मामला और नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप जैसी घटनाओं को कवर किया है.

1917 में शुरू हुआ पुलित्जर अवॉर्ड अखबारों की पत्रकारिता, साहित्य और संगीत रचना के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को प्रदान किया जाता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi