S M L

चक्रवात फेथाई: विजयवाड़ा में एक की मौत, प्रशासन ने जारी किया हाई अलर्ट

लोगों को घर से बाहन न निकलने की चेतावनी जारी. शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टी का ऐलान

Updated On: Dec 17, 2018 03:08 PM IST

FP Staff

0
चक्रवात फेथाई: विजयवाड़ा में एक की मौत, प्रशासन ने जारी किया हाई अलर्ट

सोमवार दोपहर आंध्र प्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले में चक्रवात फेथाई ने दस्तक दे दी. विजयवाड़ा शहर में भूस्खलन में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी. हालांकि, राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का कहना है कि अब तक कहीं और कोई हताहत नहीं हुआ है.

सुरक्षा कारणों से राज्य के तटीय जिलों में शैक्षिक संस्थानों में छुट्टी घोषित कर दी गई है.

न्यूज18 के मुताबिक पूर्वी गोदावरी जिले की ओर 16 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चक्रवात के बढ़ने की वजह से कम से कम 23 पैसेंजर ट्रेन को रद्द कर दिया गया. एक ट्रेन के समय में बदलाव किया गया और दूसरे को आंशिक रूप से रद्द कर दिया गया था. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने तटीय क्षेत्रों के कलेक्टरों को निर्देश दिया है कि लोगों की जान बचाने के लिए वो सभी तरह की सावधानी बरतें.

चक्रवात ने काकिनाड़ा और मछलिपट्टनम के तट को 11.30 बजे से 2.30 बजे के बीच पार किया. उत्तर तटीय क्षेत्र में 300 से ज्यादा गांवों को हाई अलर्ट पर रखा गया है. साथ ही 1,000 पुलिसकर्मियों सहित 10,000 राज्य सरकारी कर्मचारियों, 500 आपदा प्रबंधन कर्मियों को भी तैनात किया गया है.

ये भी पढ़ें: 'फेथाई' चक्रवाती तूफान LIVE UPDATES: खतरे के चलते आंध्र प्रदेश में 22 ट्रेनें रद्द, प्रशासन ने जारी किया हाई अलर्ट

एक अधिकारी के मुताबिक, सोमवार को काकिनाड़ा से करीब 125 किलोमीटर दूर एक भीषण चक्रवात, यानम और थूनी तट को पार कर गया. पूर्वी घाटों, पच्छिमा गोदावरी, विशाखापट्टनम और विजयनगरम जिलों में तटीय इलाकों में भारी बारिश होने की उम्मीद है. प्रति घंटे 80 से 90 किमी की रफ्तार से हवाएं विशाखाट्टनम, विजयनगरम और श्रीकाकुलम जिलों को प्रभावित करेंगी.

इंडिगो एयरलाइंस ने भी कहा है कि चक्रवात के कारण उड़ानें प्रभावित होने की संभावना है.

केले और बागवानी करने वालों किसानों को धान, ज्वार और अन्य अनाजों के भंडारण की सलाह दी गई है. अधिकारी ने बताया, 'अगर अनाज अभी भी खेतों में है, तो फसलों को ढंकने के लिए तिरपाल का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. किसान इसे कृषि अधिकारियों से प्राप्त कर सकते हैं.'

निचले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को तुरंत सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है. अधिकारी ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि- 'जब तक तूफान तट पार नहीं कर लेता तब तक कोई भी अपने घरों से बाहर नहीं निकले. सड़कों पर वाहनों में न रहें और पेड़ के नीचे न आएं. पूर्वी गोदावरी, विशाखापत्तनम, विजयनगरम और श्रीकाकुलम के निवासी अधिक सावधान रहें.'

तटीय क्षेत्र के कुछ हिस्सों, विशेष रूप से कृष्णा जिले के हिस्सों में बारिश और तेज हवाएं शुरु हो गई हैं.

ये भी पढ़ें: चक्रवाती तूफान ‘फेथाई’ टकराएगा आंध्र प्रदेश के तटों से, ओडिशा में होगी तेज बारिश

तटीय क्षेत्रों के साथ विभिन्न जिला प्रशासनों द्वारा राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल को भी सतर्क कर दिया गया है. उनके कंट्रोल रुम का नंबर है:

मछलीपट्टनम: 08672-252486

गुईवाड़ा: 08674-243697

नुज़विड: 08656-232717

विजयवाड़ा: 0866-2574454

सोमवार को पश्चिम बंगाल में, हावड़ा, पूर्वी और पश्चिम मिदनापुर, पुरुलिया, बांकुरा, पश्चिम बर्दवान, झारग्राम और हुगली जिले में एक या दो स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग ने अपने पूर्वानुमान में कहा कि उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी से 30 से 40 किमी प्रति घंटा तक की गति वाली तेज हवाएं चलने के आसार हैं.

cyclone phethai

विभाग ने कहा कि उड़ीसा में रायगडा, कोरापुट, मलकांगिरी, नबरांगपुर, कालाहांडी, कंधमाल, नुपादा, बारागढ़, बलंगिर, झारसुगुडा और संबलपुर जिलों जैसे कई स्थानों पर सोमवार को भारी बारिश होगी.

18 दिसंबर तक मुख्य रूप से दक्षिण ओडिशा जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा और गरज से साथ बारिश की भी भविष्यवाणी की गई है. ओडिशा सरकार ने जिला कलेक्टरों से पहले से ही बेमौसम बरसात से धान की रक्षा के लिए कदम उठाने के लिए कहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi