S M L

कश्मीरी युवाओं से बोले अजहरूद्दीन: पथराव से किसी का नहीं होगा भला

पथराव से किसी तरह का कोई लाभ नहीं मिलेगा. मैं पूरी तरह से पथराव के खिलाफ हूं. कश्मीरी युवा अपनी ऊर्जा विकास के कामों में लगाएं

Bhasha Updated On: Apr 26, 2017 11:46 PM IST

0
कश्मीरी युवाओं से बोले अजहरूद्दीन: पथराव से किसी का नहीं होगा भला

जम्मू-कश्मीर में स्थानीय जनता और युवाओं द्वारा सुरक्षाबलों पर पथराव करने की घटना में कोई कमी नहीं आई है. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन ने कहा कि, पथराव करने से जम्मू-कश्मीर का भला नहीं होने वाला है. उन्होंने घाटी के युवाओं को अपनी ऊर्जा रचनात्मक कामों में लगाने की सलाह दी.

उन्होंने राज्य के लोगों तक पहुंचने के लिए एक राजनीतिक पहल करने की भी वकालत की.

क्रिकेटर से नेता बने अजहरूद्दीन और बॉलीवुड अभिनेत्री दीया मिर्जा सेना द्वारा आयोजित दो दिन के युवा उत्सव जश्न-ए-बारामूला के संबंध में उत्तरी कश्मीर के शहर में थे. बुधवार को इस उत्सव का समापन हुआ.

अजहरीद्दीन ने कहा, ‘हां, एक राजनीतिक पहल करनी चाहिए क्योंकि अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो आपको ऐसी समस्याओं (हिंसा) का सामना करते रहना पड़ेगा.’

kashmir_stone_pelting

कश्मीर घाटी में युवा पिछले कई महीनों से सुरक्षाबलों और जवानों पर पत्थर बरसा रहे हैं

पत्थरबाजी से आपको कुछ हासिल नहीं होगा

उन्होंने कश्मीरी युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि, 'पथराव से किसी तरह का कोई लाभ नहीं मिलेगा. मैं पूरी तरह से पथराव के खिलाफ हूं. ईश्वर ने आपको जवानी दी है लेकिन आप पथराव करके इसे बर्बाद कर रहे हैं. आप क्या हासिल करेंगे? आप एक साल, दो साल पत्थर फेंकेंगे, इसके बाद क्या होगा? आप अपनी युवावस्था कुछ अच्छे काम में लगाओ, अपनी प्रतिभा निखारो और शिक्षा प्राप्त करो क्योंकि इससे आपको पता चलेगा कि क्या सही है और क्या गलत है.’

उन्होंने कहा कि जब लोग पढ़ते-लिखते नहीं है तो उनको किसी के द्वारा गलत राह दिखाए जाने का खतरा होता है.

क्रिकेटर परवेज रसूल का उदाहरण देते हुए अजहरूद्दीन ने कहा कि, कश्मीरी युवक प्रतिभावान है लेकिन उन्हें उचित मार्गदर्शन की जरूरत है. अजहरूद्दीन ने कहा कि, रसूल ने इसकी शुरूआत कर दी है, मैं चाहता हूं कि दूसरे लोग इसमें शामिल हों और अगर आप अच्छा खेलते हो तो कोई आपको रोक नहीं सकता.

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि हिंसा से किसी भी मुद्दे का हल नहीं होता.

उन्होंने कहा, ‘अगर आप यहां खर्च होने वाले सेना के बजट को लें, अगर इसे हिंसा ना होने पर किसी और चीज पर खर्च किया जाए तो इससे कमाल हो जाएगा.’

Kashmir-Police

श्रीनगर के हिंसा प्रभावित क्षेत्र में पहरा देता हुआ सुरक्षाबल का जवान

इसके अलावा अजहरूद्दीन ने मीडिया को भी सलाह दी कि, वह कश्मीर के बारे में सकारात्मक चीजें दिखाए और युवाओं की एक ही तरह की छवि दिखाने से बचे.

गौतम गंभीर का ट्वीट उनका निजी बयान

क्रिकेटर गौतम गंभीर के हाल ही में ट्वीट विवाद पर अजहर ने कहा कि वह उनका निजी बयान था और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. उन्होंने कहा कि लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए लेकिन जब कोई कुछ कहना चाहता है तो आप उसे रोक नहीं सकते.

गौतम गंभीर ने पिछले दिनों एक ट्वीट कर कश्मीर घाटी में चुनाव के दौरान श्रीनगर में पथराव झेलने वाले सीआरपीएफ जवानों का समर्थन किया था.

अजहरूद्दीन ने सेना की प्रशंसा करते हुए कहा कि, सेना कश्मीर में युवाओं को अपने साथ जोड़ने के लिए काफी कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि कोई भी इससे अधिक प्रयास नहीं कर सकता. सेना किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाना चाहती. उनका काम सभी की, पूरे भारत की रक्षा करना है. हमें ऐसी कठिन परिस्थितियों में काम करने के लिए सेना की सराहना करनी चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi