S M L

सीपीआई (माओवादी) से बुजुर्गों की होगी छुट्टी, संगठन में सुधार की कवायद

इस परिपत्र की एक कॉपी में नेताओं से इन वृद्ध कैडरों के ज्ञान का उपयोग करने को कहा गया है

Updated On: Dec 17, 2017 01:26 PM IST

Bhasha

0
सीपीआई (माओवादी) से बुजुर्गों की होगी छुट्टी, संगठन में सुधार की कवायद

प्रतिबंधित सीपीआई (माओवादी) ने संगठन में सुधार की कवायद करते हुए बुजुर्ग और शारीरिक रूप से अक्षम नेताओं को सेवानिवृत्ति देनी प्रारंभ कर दी है.

केंद्रीय नेतृत्व ने इस साल की शुरूआत में ही ये निर्णय ले लिया था और इसे लागू करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. सीपीआई (माओवादी) की केंद्रीय समिति की ओर से अंगीकार किए गए तीन पृष्ठों वाले संकल्प पत्र और परिपत्र को संगठन में बांटा गया है.

इस परिपत्र में कहा गया है कि जो नेता अपनी संबंधित जिम्मेदारियों का वहन करने में असमर्थ हैं, उन्हें उनकी संबंधित समितियों से राहत मिलनी चाहिए और उन्हें उनकी क्षमता के अनुसार काम दिया जाना चाहिए.

इस परिपत्र की एक कॉपी में नेताओं से इन वृद्ध कैडरों के ज्ञान का उपयोग करने को कहा गया है.

इस साल 25 मई को पश्चिम बंगाल के नक्सलबाड़ी वामपंथी आंदोलन के 50 साल पूरे हो गए. इस मौके पर आंदोलन के अगुवा रहे चारू मजूमदार, कानू सान्याल और जगंल संथाल के समर्थक और भाकपा-माले लिबरेशन के नेता पश्चिम बंगाल के नक्सलबाड़ी गांव में जमा हुए थे.

माले के नेताओं ने अपने समर्थकों से नए आंदोलन के लिए एकजुट होने की अपील की. नेताओं ने अपने समर्थकों से कहा कि वो युवाओं को अपने साथ जोड़कर फिर से नक्सलबाड़ी आंदोलन खड़ा करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi