S M L

कश्मीर के रियासी में गौ-रक्षकों ने की खानाबदोश परिवार की पिटाई, बच्ची जख्मी

ये खानाबदोश गुज्जर परिवार सदियों से कश्मीर में रह रहे हैं और जानवर पालते हैं.

Updated On: Apr 24, 2017 11:34 AM IST

Bhasha

0
कश्मीर के रियासी में गौ-रक्षकों ने की खानाबदोश परिवार की पिटाई, बच्ची जख्मी

जम्मू कश्मीर के रियासी जिले में कथित तौर पर एक खानाबदोश परिवार के सदस्यों की पिटाई के मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

इस खानाबदोश परिवार के चार सदस्यों के खिलाफ भी रियासी के उपायुक्त की इजाजत के बगैर केस दर्ज किया गया है. इन लोगों पर पालतू जानवरों को रियासी से किश्तवाड़ जिले के इनशान ले जाने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है.

रियासी के एसएसपी ताहिर भट ने पीटीआई को बताया, 'इन खानाबदोश परिवार के सदस्यों की पिटाई के मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इन लोगों की गुरूवार को बिना इजाजत जानवरों को ले जाते वक्त पिटाई कर दी गयी थी.'

ये भी पढ़ें: कश्मीर के हालात पर चर्चा के लिये महबूबा और मोदी की मुलाकात

ये मामला 21 अप्रैल शुक्रवार की शाम का बताया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक खुद को गो-रक्षक बता रही भीड़ ने एक परिवार को अपना निशाना बनाया. मौके पर पुलिस भी मौजूद थी लेकिन भीड़ 'जय श्रीराम' के नारे लगाकर हिंसा करती रही.

घटना का से जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर बीती 21 अप्रैल को अपलोड किया गया जो बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है. लोगों की भीड़ एक घर पर हमला करती हुई नजर आ रही है.

महिलाएं मांगती रहीं रहम

वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि घर में मौजूद महिलाएं भीड़ से रहम की भीख मांग रहीं हैं और मौके पर पुलिस भी मौजूद है. खबरों के मुताबिक इस घटना में 9 साल की एक बच्ची भी गंभीर रूप से जख्मी हो गई है.

ये भी पढ़ें: कश्मीरी स्कॉलर ने आपत्तिजनक शब्द पर छोड़ा बिट्स पिलानी 

इस परिवार के सदस्य रियासी से कश्मीर जा रहे थे. इन लोगों को गो-तस्कर समझकर इनकी पिटाई कर दी गई जबकि असल में ये खानाबदोश लोग हैं जो अपने मवेशियों को साथ लेकर चलते हैं.

घटना के बाद गुज्जर समुदाय की तरफ से एक बयान में कहा गया, 'हम अपने जानवरों का बच्चों की तरह ख्याल रखते हैं इसलिये गौरक्षकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है.'

खानाबदोश गुज्जर-बकरवाल आदिवासी समुदाय के सदस्यों ने जम्मू और आसपास के लोगों से अनुरोध किया किया वह खानाबदोशों और उनके जानवरों को लेकर सदियों पुरानी परंपरा और सहनशीलता को बरकरार रखें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi