S M L

इस साल त्योहारों में आसानी से मिले यात्रियों को कंफर्म टिकट

स्लीपर श्रेणी में पिछले साल की तुलना में इस साल औसतन वेटिंग लिस्ट नीचे आई है

Updated On: Nov 18, 2017 05:35 PM IST

Bhasha

0
इस साल त्योहारों में आसानी से मिले यात्रियों को कंफर्म टिकट

त्योहारों के दौरान रेल की पक्की (कंफर्म) टिकट मिलना मुश्किल होता है लेकिन रेलवे द्वारा इस बार दिवाली के दौरान विशेष और नई ट्रेनों को चलाने जैसे प्रबंध के कारण वेटिंग के टिकट ‘कंफर्म’ होने की दर पिछले साल के मुकाबले बढ़ी. यह बात कंसल्टिंग सर्विस कंपनी रेलयात्री के अध्ययन में सामने आई है.

ऐप के जरिए रेल संबंधी तथा अन्य सेवाएं उपलब्ध कराने वाली रेलयात्री. इन के अध्ययन से यह भी पता चलता है कि स्लीपर श्रेणी में पिछले साल की तुलना में इस साल औसतन वेटिंग लिस्ट नीचे आई है.

रिपोर्ट के अनुसार दिवाली की छुट्टियों के समय देहरादून-हावड़ा दून एक्सप्रेस, पुणे-जम्मू तवी झेलम एक्सप्रेस समेत कई लंबी दूरी की ट्रेनों में टिकट पक्की होने की दर साल 2016 में क्रमशफ् 38.50 प्रतिशत और 52.00 प्रतिशत थी इसके मुकाबले 2017 में इनमें कंफर्मेशन दर बढ़कर क्रमश: 60.40 प्रतिशत और 64. 90 प्रतिशत हो गई.

इसी ततरह वहीं छत्रपति टर्मिनस से हावड़ा सुपरफाट मेल (गया के रास्ते) में टिकट पक्की होने की दर 2016 में 40.0 प्रतिशत के मुकाबले 2017 में दिवाली के दौरान 50.40 प्रतिशत हो गयी है. इसी प्रकार, पुणे-जम्मूतवी झोल एक्सप्रेस, पुणे-दानापुर सुपरफास्ट एक्सप्रेस और बैंगलोर.दानापुर संघमित्रा सुपरफास्ट एक्सप्रेस में भी टिकट पक्की होने की स्थिति सुधरी.

अध्ययन के अनुसार रेलवे में टिकट निरस्त कराने की दर पिछले दो साल से 18 प्रतिशत है. इसका मतलब है कि शेष प्रतीक्षा सूची के यात्रियों को पक्की टिकट मिली. साल 2015 में प्रतीक्षा सूची के टिकटों के निरस्तीकरण की दर 25.5 प्रतिशत थी जो 2016 और 2017 में 18 प्रतिशत पर बरकरार है.

पहले रेलवे के टिकटों में भारी मारा-मारी होती थी

रेल यात्री के सह संस्थापक मनीष राठी ने कहा, ‘हर साल दीवाली और अन्य त्योहारों के दौरान रेल टिकट की भारी मांग होती है और कई यात्री को पक्की टिकट नहीं मिल पाती. हालांकि आंकड़ों से पता चलता है कि कुछ ही लोगों को अपने टिकट निरस्त करने पड़े.’ अध्ययन में यह भी कहा गया है कि स्लीपर श्रेणी में पिछले साल की तुलना में इस साल औसतन प्रतीक्षा सूची नीचे आई है.

इसके अनुसार अवकाश के दौरान , ‘कोटा-पटना एक्सप्रेस में स्लीपर श्रेणी में 2016 में औसतन प्रतीक्षा सूची 813 थी जो 2017 में घटकर 735 पर आ गई. वहीं भागलपुर-मुंबई लोकमान्य तिलक सुपर फास्ट एक्सप्रेस में प्रतीक्षा सूची 2017 में घटकर 727 पर आ गई जो 2016 में 736 थी. इसी प्रकार, अहमदाबाद-हरिद्वार योग एक्सप्रेस, यंशवंतपुर-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस जैसे ट्रेनों में भी प्रतीक्षा सूची घटी है.’

राठी का कहना है कि इसका एक प्रमुख कारण रेलवे द्वारा दिवाली के समय 29 विशेष ट्रेनें और कुछ नई ट्रेनों को चलाना है. रेल यात्री ऐप को उपयोग करने वालों की संख्या करीब 50 लाख है. अध्ययन में ऐप उपयोग करने वालों से प्राप्त आंकड़ों तथा अन्य स्रोतों से ली गयी जानकारी का उपयोग किया गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi