S M L

हिमाचल: 50 साल पहले प्लेन क्रैश में मारे गए सैनिक का मिला शव

पर्वतारोहियों का दल 1 जुलाई को चंद्रभाग-13 चोटी पर साफ-सफाई के लिए गया था. शव और विमान का मलबा ढाका ग्लेशियर बेस कैंप पर मिला जो समुद्री सतह से 6,200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है

FP Staff Updated On: Jul 21, 2018 11:33 AM IST

0
हिमाचल: 50 साल पहले प्लेन क्रैश में मारे गए सैनिक का मिला शव

पर्वतारोहियों के एक दल ने 1968 में उत्तरकाशी में हुए प्लेन क्रैश में मारे गए एक सैनिक का शव ढूंढ निकाला है. हिमाचल प्रदेश के लाहौल में 50 साल पहले भारतीय वायु सेना का एक विमान एएन-12 हादसे का शिकार हो गया था. चंडीगढ़ से लेह जा रहे इस विमान में 102 लोग सवार थे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के मुताबिक, पर्वतारोहियों के दल ने एक वायु सैनिक का शव बरामद किया है. साथ ही विमान का कुछ मलबा भी मिला है. यह दल 1 जुलाई को चंद्रभाग-13 चोटी पर साफ-सफाई के लिए गया था. शव और विमान का मलबा ढाका ग्लेशियर बेस कैंप पर मिला जो समुद्री सतह से 6,200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.

चोटी पर चढ़ाई करने वाली टीम के मुखिया राजीव रावत ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि पहले तो विमान के कुछ मलबे मिले. वहां से कुछ दूरी पर एक सैनिक का शव बरामद हुआ. रावत ने आगे कहा, हमारी टीम ने शव और मलबे का फोटो लिया और 16 जुलाई को इसे आर्मी के हाई ऑल्टीट्यूड वॉरफेयर स्कूल को भेजा. उसके बाद आर्मी के अधिकारियों ने उस इलाके में खोज अभियान शुरू किया.

सोवियत संघ के बने उस विमान में 98 यात्री और 4 क्रू मेंबर सवार थे. यह विमान 7 फरवरी, 1968 को लापता हो गया था. चंडीगढ़ से लेह के लिए उड़ान भरने के बाद खराब मौसम की सूचना पाते ही पायलट ने वापस चंडीगढ़ लौटने की योजना बनाई थी. रडार से गायब होने के पहले उस विमान का ठिकाना रोहतांग दर्रे के ऊपर बताया गया था.

हादसे के 35 साल बाद 2003 में मनाली के एबीवी इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियर एंड अलायड स्पोर्ट्स के पर्वातारोहियों ने दक्षिण ढाका ग्लेशियर में विमान का कुछ मलबा बरामद किया था. इस दौरान सिपाही बेली राम का शव भी मिला था जो उस विमान में सवार थे. बेली राम आर्मी के जवान थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi