S M L

LIVE: CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग खारिज, उपराष्ट्रपति ने ठुकराया प्रस्ताव

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग खारिज कर दिया गया है

| April 23, 2018, 10:14 AM IST

FP Staff

0

हाइलाइट

Apr 23, 2018

  • 12:46(IST)

    दोनों पार्टियां गंदी राजनीति कर रही हैं और महाभियोग नोटिस को भी राजनीति के तहत खारिज किया गया है. वो (वेंकैया नायडू) थोड़ा इंतजार कर सकते थे. इतनी जल्दबाजी की जरूरत नहीं थी: अरविंद सावंत, शिवसेना नेता

  • 11:33(IST)

    उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सीजेआई के खिलाफ 64 राज्यसभा सांसदों द्वारा साइन किया गया महाभियोग नोटिस किस आधार पर खारिज किया है. उनके पास ये कहने का अधिकार नहीं है कि आरोप सिद्ध नहीं होते. ये काम तीन जजों की इन्कवॉयरी कमेटी का है. उन्हें (उपराष्ट्रपति) सिर्फ ये देखना था कि 50 से ज्यादा सांसदों के हस्ताक्षर हैं या नहीं.

  • 11:17(IST)

    इन वजहों से उपराष्ट्रपति ने खारिज किया सीजेआई के खिलाफ महाभियोग नोटिस

    - सांसदों को अपने ही लगाए आरोपों पर भरोसा नहीं.
    - तथ्य न तो भरोसेमंद, न जांचे हुए.
    - आरोप न्यायपालिका की स्वतंत्रता को कमजोर करते हैं.
    - रोस्टर बनाने के मामले का सुप्रीम कोर्ट ही निपटारा करें, ये उसाका अंदरूनी मामला है.

  • 11:07(IST)

    सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ लाए गए महाभियोगृ नोटिस को खारिज करते उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

  • 11:06(IST)

    सीजेआई के खिलाफ लाए गए महाभियोग नोटिस को ठुकराए जाने पर बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि उन्होंने (वेंकैया नायडू) सही फैसला किया है. उन्हें फैसला करने में दो दिनों का समय भी नहीं लेना चाहिए. इसे पहले ही खारिज कर दिया जाना चाहिए था. कांग्रेस ने ऐसा कर के खुदकुशी की है. 

  • 10:55(IST)

    मैंने उन सभी पांच कारणों पर गौर किया है, जिन्हें आधार बना कर कांग्रेस ने सीजेआई को हटाने के लिए महाभियोग का नोटिस दिया था. कोई भी तथ्य ऐसा नहीं था जो सीजेआई के खराब व्यवहार की पुष्टि करता होः वेंकैया नायूड

  • 10:50(IST)

    इस वजह से वेंकैया नायडू ने ठुकराया महाभियोग का नोटिस
     

  • 10:43(IST)

    सूत्रों के मुताबिक, वेंकैया नायडू ने कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों द्वारा सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ दिए महाभियोग के नोटिस में ठोस कारणों की कमी बताते हुए उसे खारिज किया है. नायडू ने इस संबंध में शीर्ष कानूनी और संवैधानिक विशेषज्ञों के साथ गहन विचार-विमर्श के बाद यह फैसला लिया है. सूत्रों का कहना है कि उपराष्ट्रपति नायडू ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अपने यात्रा कार्यक्रमों में बदलाव किया और इस मामले में कई विशेषज्ञों के साथ सलाह मश्विरा किया.

  • 10:40(IST)

    इससे पहले कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि जब तक चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) रिटायर नहीं हो जाते, तब तक मैं उनकी कोर्ट में नहीं जाउंगा. क्योंकि मैं अपने पेशे में नैतिकता के उच्चतम मानदंडों (हाई स्टैंडर्ड) का पालन करता हूं.

  • 10:30(IST)

    उपराष्ट्रपति द्वारा सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ लाए गए महाभियोग नोटिस को खारिज करने को लेकर कांग्रेस नेता पीएन पुनिया ने कहा, ये बेहद गंभीर विषय है. हमें नहीं पता कि महाभियोग नोटिस को खारिज करने की क्या वजह है. कांग्रेस व अन्य विपक्षी पार्टियां लीगल एक्सपर्ट्स से बात करेंगी और अगला कदम उठाएंगी.

  • 10:19(IST)

    ये हैं वो पांच कारण जिन्हें आधार बना कर कांग्रेस ने सीजेआई को हटाने के लिए महाभियोग का नोटिस दिया है-

    1- खराब आचरण
    2- प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट से फायदा उठाना
    3- रोस्टर में मनमाने तरीके से बदलाव
    4- अहम केसों के बंटवारे में भेदभाव का आरोप
    5- जमीन अधिग्रहण का आरोप

  • 10:12(IST)

    राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने विपक्ष द्वारा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ लाए गए महाभियोग को हरी झंडी देने से इनकार कर दिया है

LIVE: CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग खारिज, उपराष्ट्रपति ने ठुकराया प्रस्ताव
Loading...

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग खारिज कर दिया गया है. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने महाभियोग प्रस्ताव ठुकरा दिया है. उन्होंने विपक्ष द्वारा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ लाए गए महाभियोग को हरी झंडी देने से इनकार कर दिया है. आपको बता दें कि सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ सात पार्टियों ने महाभियोग का प्रस्ताव दिया था.

इससे पहले कांग्रेस नेताओं ने कहा था कि अगर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ दिए गए महाभियोग प्रस्ताव को राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ठुकराते हैं तो पार्टी सुप्रीम कोर्ट जा सकती है.

पार्टी के एक नेता ने कहा था, 'सभापति के फैसले को चुनौती दी जा सकती है. इसकी न्यायिक समीक्षा हो सकती है.' उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस उम्मीद के साथ चीफ जस्टिस पर नैतिक दबाव बना रही है कि महाभियोग प्रस्ताव पेश किए जाने पर वह अपने ज्यूडिशियल जिम्मेदारी से अलग हो जाएंगे.

गौरतलब है कि गत शुक्रवार को कांग्रेस और छह अन्य विपक्षी दलों ने देश के चीफ जस्टिस पर कदाचार और पद के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव का नोटिस दिया था.

महाभियोग प्रस्ताव पर कुल 71 सदस्यों ने हस्ताक्षर किए हैं जिनमें सात सदस्य सेवानिवृत्त हो चुके हैं. महाभियोग के नोटिस पर हस्ताक्षर करने वाले सांसदों में कांग्रेस, राकांपा, माकपा, भाकपा, एसपी, बीएसपी और इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के सदस्य शामिल हैं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi