S M L

सीआईसी का आदेश-सार्वजनिक करें गोडसे के दस्तावेज

केंद्रीय सूचना आयोग का आदेश दस्तावेजों को नेशनल आर्काइव्स की वेबसाइट पर सार्वजनिक करे.

Updated On: Feb 20, 2017 02:54 PM IST

FP Staff

0
सीआईसी का आदेश-सार्वजनिक करें गोडसे के दस्तावेज

केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने महात्मा गांधी की हत्या से जुड़े नाथूराम गोडसे के बयान और उससे संबंधित सभी दस्तावेजों को नेशनल आर्काइव्स की वेबसाइट पर सार्वजनिक करने का आदेश दिया है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, सूचना अधिकारी श्रीधर आचार्युलु ने कहा, कोई भी गोडसे और सह-आरोपी के विचारों से भले ही असहमत हो लेकिन उनके विचारों का खुलासा करने से इनकार नहीं कर सकते, वहीं दूसरी तरफ यह भी कहा कि कोई भी गोडसे और उनके सिद्धांतों को न मानने वाला व्यक्ति उनके खिलाफ हत्या की हद तक नहीं जा सकता है.

दक्षिणपंथी कार्यकर्ता नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी 1948 में महात्मा गांधी की हत्या की थी.

दिल्ली पुलिस से याचिका दायर करने वाले आशुतोष बंसल ने सभी दस्तावेज, चार्टशीट और बयान संबंधित सभी दस्तावेज मांगे हैं. दिल्ली पुलिस ने उनके आवेदन को नेशनल आर्काइव्स को भेजते हुए कहा है कि दस्तावेज सौंप दिए हैं वहीं आरकाइव्स विभाग ने कहा है बंसल स्वयं सभी सूचना ले सकते हैं लेकिन सूचना न मिलने पर बंसल केंद्रीय सूचना आयोग पहुंचे हैं.

आचार्युलु ने नेशनल आरकाइव्स के जनसूचना अधिकारी को निर्देश दिया है कि वह फोटोप्रति के लिए तीन रूपए प्रति पृष्ठ शुल्क न चार्ज करें.

दिल्ली पुलिस और आर्काइव्स विभाग ने कोई भी सूचना सार्वजनिक करने में कोई आपत्ति नहीं जतायी है. आचार्युलु ने कहा कि सूचना के लिए किसी छूट की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि सभी सूचना 20 वर्ष से ज्यादा पुरानी है, ऐसे में यदि वह आरटीआई कानून के प्रावधान 8:1:ए: के तहत नहीं आता तो उसे गोपनीय नहीं रखा जा सकता.

नेशनल आर्काइव्स (एनएआई) को आदेश दिया है कि आवेदनकर्ता को 20 दिनों के अंदर गोडसे से सबंधित चार्टशीट की कॉपी और बयान की सीडी उपलब्ध कराई जाए. वहीं आरटीआई की सामान्य 2रु प्रति कॉपी के हिसाब से चार्ज किया जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi