Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

गुजरात चुनाव में आखिर क्यों है चीन की इतनी दिलचस्पी?

चीनी ऑब्जर्वरों का मानना है कि यह चुनाव पीएम मोदी के एजेंडे और अब तक किए काम का लिटमस टेस्ट है

FP Staff Updated On: Dec 15, 2017 04:10 PM IST

0
गुजरात चुनाव में आखिर क्यों है चीन की इतनी दिलचस्पी?

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हो गया है. बस नतीजे आने बाकी है लेकिन इस चुनाव के चर्चे देश के साथ-साथ विदेश में भी हो रहे हैं. इस चुनाव में पाकिस्तान के बाद अब चीन की भी एंट्री हो गई है लेकिन यहां मामला थोड़ा अलग है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक चीनी ऑब्जर्वरों का मानना है कि यह चुनाव पीएम मोदी के एजेंडे और अब तक किए काम का लिटमस टेस्ट है.

अखबार ने लिखा है कि दोनों देशों के बीच बढ़ रही आर्थिक भागीदारी के बीच भारत की अर्थव्यवस्था में होने वाला बदलाव चीन के लिए चिंता का विषय है.

अखबार ने एक संपादकीय प्रकाशित किया है. इसमें लिखा है कि साल 2014 में देश के प्रधानमंत्री बनने से पहले नरेंद्र मोदी 13 सालों तक गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके हैं ऐसे में बीजेपी गुजरात चुनाव जीतने की हरसंभव कोशिश कर रही है. इस संपादकीय में लिखा है कि बीजेपी ने देश में विकास को आंकने के लिए गुजरात मॉडल का उदाहरण दिया था.

संपादकीय में लिखा है कि इन सुधारों का विपक्ष और कई अर्थशास्त्रियों ने जमकर विरोध किया था. इस चुनाव में पीएम मोदी के आर्थिक सुधार और अन्य सुधारवादी एजेंडे को लेकर लोगों की राय के बारे में पता चलेगा.

लेख के मुताबिक, बीजेपी यह चुनाव हार जाती है तो यह पीएम के आर्थिक सुधारों के लिए बहुत बड़ा झटका होगा. लेख में यह भी लिखा है कि यदि बीजेपी चुनाव जीत जाती है लेकिन वोट शेयर में कमी आती है तो यह बीजेपी के लिए खतरे की घंटी होगी. अखबार के मुताबिक वोट शेयर में कमी या बीजेपी की हार का सीधा मतलब यही होगा कि देश के लोग उनके आर्थिक सुधारों से खुश नहीं हैं और उनके सुधारों में कमियां हैं.

आखिर में इस आर्टिकल में लिखा है कि चीन को गुजरात चुनाव पर पैनी नजर रखनी चाहिए. इसके साथ ही भारत में बिजनेस कर रही कंपनियों को चुनावी नतीजों के बाद बड़े आर्थिक बदलाव के लिए तैयार रहने की हिदायत दी गई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi