S M L

केंद्रीय विद्यालयों में हाथ जोड़कर प्रार्थना करने पर विवाद, मंत्रालय का जवाब- हमारा कोई लेना-देना नहीं

पीआईएल में शिकायत की गई थी कि केंद्रीय विद्यालयों में बच्चों को प्रार्थना करना अनिवार्य है. जिसे किसी भी रूप में उचित नहीं ठहराया जा सकता

Updated On: Sep 04, 2018 05:09 PM IST

FP Staff

0
केंद्रीय विद्यालयों में हाथ जोड़कर प्रार्थना करने पर विवाद, मंत्रालय का जवाब- हमारा कोई लेना-देना नहीं

केंद्रीय विद्यालयों में हाथ जोड़कर प्रार्थना करने के मामले पर केंद्र को भेजे गए नोटिस का जवाब देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कहा कि उनका इस मामले से कुछ भी लेना देना नहीं है.

नोटिस का जवाब देते हुए मंत्रालय ने कहा कि केवीएस कई कमेटी और बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के अंतर्गत काम करने वाली एक स्वायत्त संस्था है. कोर्ट ने इस मामले में मंत्रालय को नोटिस जारी किया था. संभावना है कि कोर्ट याचिका पर फिर से सुनवाई 10 सितंबर को करेगा.

दरअसल, एक टीचर की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में  पीआईएल दायर कर सवाल किया गया था कि सरकारी अनुदान पर चलने वाले स्कूलों में किसी खास धर्म को प्रचारित करना उचित नहीं. सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को स्वीकार करते हुए केंद्र और केंद्रीय विद्यालय स्कूल प्रबंधन को नोटिस जारी किया था.

कोर्ट ने क्या कहा?

बेंच ने कहा था, 'केंद्रीय विद्यालयों में बच्चों को हाथ जोड़कर और आंख बंद कर प्रार्थना क्यों कराई जाती है?' पीआईएल में संविधान के आर्टिकल 92 के तहत 'रिवाइस्ड एजुकेशन कोड ऑफ केंद्रीय विद्यालय संगठन' की वैधता को चुनौती दी गई थी. आर्टिकल 92 के मुताबिक, 'स्कूल में पढ़ाई की शुरुआत सुबह की प्रार्थना से होगी. सभी बच्चे, टीचर्स और प्रिंसिपल इस प्रार्थना में हिस्सा लेंगे.' इस आर्टिकल में केंद्रीय विद्यालयों में होने वाली सुबह की प्रार्थना की प्रक्रिया के बारे में बताया गया है.

पिटिशनर का कहना था कि सरकारी स्कूलों में धार्मिक विश्वासों और ज्ञान को प्रचारित करने के बजाय साइंटिफिक टेंपरामेंट यानी वैज्ञानिक मिजाज को प्रोत्साहित करना चाहिए. साथ ही संविधान के आर्टिकल 28 (1) और आर्टिकल 19 (मौलिक अधिकारों) को संरक्षण देना चाहिए.

पीआईएल में कहा गया था, 'आर्टिकल 19 नागरिकों को मौलिक अधिकार के तहत अभिव्यक्ति का अधिकार भी देता है. ऐसे में छात्रों को किसी एक धार्मिक आचरण के लिए बाध्य नहीं करना चाहिए.'

पीआईएल में शिकायत की गई थी कि केंद्रीय विद्यालयों में बच्चों को प्रार्थना करना अनिवार्य है. जिसे किसी भी रूप में उचित नहीं ठहराया जा सकता.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi