S M L

'सुप्रीम कोर्ट ने दी थी 2022 तक की मोहलत, सरकार ने पहले ही खत्म की हज सब्सिडी'

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सब्सिडी से हाजियों को नहीं बल्कि एयरलाइन कंपनियों को फायदा मिलता था

Updated On: Jan 16, 2018 07:28 PM IST

FP Staff

0
'सुप्रीम कोर्ट ने दी थी 2022 तक की मोहलत, सरकार ने पहले ही खत्म की हज सब्सिडी'

केंद्र सरकार द्वारा हज सब्सिडी को खत्म किए जाने के फैसले के बाद कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा हज सब्सिडी को खत्म करने की तय की गई सीमा से पहले ही इसे खत्म कर दिया है, हमें इससे कोई दिक्कत नहीं है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के पार्ट-1 को ही सरकार ने लागू किया है और मुझे लगता है कि सरकार इस फैसले के पार्ट-2 को भी लागू करेगी. मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि सब्सिडी से हाजियों को नहीं बल्कि एयरलाइन कंपनियों को फायदा मिलता था.

इससे पहले मंगलवार को अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि हर साल सरकार की तरफ से हज सब्सिडी के रूप में जो 700 करोड़ रुपए की राशि दी जाती थी वो अब समाप्त कर दी गई है. अब हज सब्सिडी से बचने वाली राशि सिर्फ और सिर्फ मुस्लिम लड़कियों की शिक्षा पर खर्च की जाएगी.

नकवी ने इसके साथ ही बताया कि पिछले साल जहां सवा लाख मुस्लिम हज पर गए थे, वहीं इस बार 1.75 लाख जायरीन हज यात्रा पर मक्का जाएंगे. यह संख्या आजाद भारत के इतिहास में सबसे अधिक है.

इसके काफी पहले से ही हज सब्सिडी को खत्म किए जाने की मांग उठती रही है. सुप्रीम कोर्ट ने साल 2012 में केंद्र सरकार को हज सब्सिडी खत्म करने का आदेश दिया था. कोर्ट ने कहा था कि सरकार को इसे 2022 तक पूरी तक खत्म कर देना चाहिए. इसे लेकर केंद्र सरकार ने भी 2018 से हज सब्सिडी को चरणबद्ध तरीके से पूरी तरह खत्म किए जाने की बात कही थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi