S M L

सीबीएसई ने कोर्ट से कहा, रायन की लापरवाही से हुई प्रद्युम्न की मौत

घटना की स्कूल के अधिकारियों ने पुलिस को जानकारी नहीं दी और मृतक बच्चे के माता पिता ने प्राथमिकी दर्ज कराई

Updated On: Oct 05, 2017 08:47 PM IST

Bhasha

0
सीबीएसई ने कोर्ट से कहा, रायन की लापरवाही से हुई प्रद्युम्न की मौत

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि गुरूग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल के एक बच्चे की हत्या स्कूल प्रशासन की ‘लापरवाही’ के कारण हुई क्योंकि बसों के ड्राइवर, कंडक्टर को केवल बच्चों और स्टाफ के लिए तय वाशरूमों के इस्तेमाल की अनुमति दी गई.

सीबीएसई ने कहा कि सात साल के लड़के की मौत की घटना की स्कूल के अधिकारियों ने पुलिस को जानकारी नहीं दी और मृतक बच्चे के माता पिता ने प्राथमिकी दर्ज कराई.

इस चर्चित स्कूल की दूसरी कक्षा का छात्र प्रद्युम्न आठ सितंबर की सुबह मृत मिला था और उसका धारदार हथियार से गला काटा गया था. आरोप है कि बस के सह चालक अशोक कुमार ने शौचालय के अंदर बच्चे की हत्या की क्योंकि लड़के ने यौन उत्पीड़न के प्रयास का विरोध किया था.

सीबीएसई ने शीर्ष अदालत में मृतक के पिता द्वारा दायर याचिका के जवाब में कहा कि बच्चे की क्रूर हत्या के बाद उसने घटना की जांच के लिए तथ्यान्वेषी समिति गठित की थी.

स्कूल की सुरक्षा व्यवस्था में खामियां

बोर्ड ने कहा कि समिति ने पाया कि स्कूल परिसर में ‘गंभीर अनियमितताएं और सुरक्षा संबंधी खामियां’ हैं. बोर्ड से पूछा गया कि क्या कथित घटना ‘स्कूल के अधिकारियों की लापरवाही’ के कारण हुई, इसका बोर्ड ने ‘हां’ में जवाब दिया.

सीबीएसई के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने हलफनामे में कहा, ‘हां, यह घटना स्कूल अधिकारियों की लापरवाही के कारण हुई क्योंकि बसों के संचालन के काम में लगे ड्राइवरों, कंडक्टरों और क्लीनरों के लिए स्कूल परिसर में शौचालय की अलग से कोई व्यवस्था नहीं है जिससे संकेत मिलते हैं कि वे छात्रों और स्टाफ के लिए उपलब्ध सुविधाओं का प्रयोग कर रहे थे.’

स्कूल प्रबंधन ने घटना की जानकारी पुलिस को नहीं दी

बेटे की हत्या के बाद जनहित याचिका दायर करने वाले प्रद्युम्न के पिता के वकील सुशील टेकरीवाल ने कहा कि सीबीएसई रिपोर्ट सुरक्षा की खामी के उनके आरोपों को सही ठहराती है. सीबीएसई ने यह भी कहा कि स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को घटना की जानकारी नहीं दी बल्कि मृतक बच्चे के माता पिता ने पुलिस को इस बारे में बताया.

स्कूलों में सुरक्षा पर दिशानिर्देश तय करने के अनुरोध वाली कई याचिकाओं पर सुनवाई कर रही शीर्ष अदालत को सीबीएसई ने बताया कि उसने बच्चों की सुरक्षा पर उससे संबद्ध संस्थानों को समय समय पर कई सर्कुलर जारी किए है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi