S M L

CBSE पेपर लीकः बढ़ता जा रहा है बोर्ड के खिलाफ छात्रों का गुस्सा, झारखंड भी जांच के दायरे में

प्रदर्शन कर रहे छात्रों का कहना है कि सीबीएसई की गलती के कारण हमें परेशानियों से दो-चार होना पड़ रहा है, इस मामले की जांच कर रही टीम ने गूगल से मदद भी मांगी है

FP Staff Updated On: Mar 30, 2018 01:13 PM IST

0
CBSE पेपर लीकः बढ़ता जा रहा है बोर्ड के खिलाफ छात्रों का गुस्सा, झारखंड भी जांच के दायरे में

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के 10वीं के गणित और 12वीं के अर्थशास्त्र के पेपर लीक होने का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है. दिल्ली में शुक्रवार को छात्रों और अभिभावकों का प्रदर्शन जारी है. छात्र दिल्ली के सीबीएसई ऑफिस के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं इस मामले में झारखंड के 6 छात्रों से पूछताछ की जा रही है.

मिली जानकारी के मुताबिक, छात्रों के इस प्रदर्शन में कांग्रेस का स्टूडेंट यूनियन एनएसयूआई भी शामिल हो गया है. छात्र सीबीएसई दफ्तर के साथ-साथ केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के घर के पास भी प्रदर्शन कर रहे हैं. प्रदर्शन को देखते हुए जावड़ेकर के आवास के आस-पास सुरक्षा व्यस्था को बढ़ा दिया गया है और रैपिड एक्शन फोर्स (रैफ) की तैनाती की गई है.

छात्रों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के निवास के आसपास धारा 144 लगा दी गई है. छात्र जावड़ेकर के निवास की तरफ भी प्रदर्शन कर रहे थे.

दिल्ली ही नहीं देश के अन्य हिस्सों से भी इस तरह की प्रदर्शन की खबरें आ रही हैं. छात्र सीबीएसई प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं. छात्र इस बात को लेकर ज्यादा गुस्साएं हुए हैं कि उन्हें सीबीएसई की गलतियों के कारण परेशान होना पड़ रहा है.

इस मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने गूगल से मदद की अपील की है. क्राइम ब्रांच ने सीबीएसई प्रमुख को भेजे गए ईमेलके बारे में जानकारी मांगी है. सीबीएसई प्रमुख को जीमेल आईडी से एक मेल भेजा गया था. इस मेल के आईडी में लीक हुए प्रश्न पत्र का हस्तलिखित फोटो लगा हुआ था.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम अबतक इस मामले में 30 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है. इसमें ज्यादातर या तो छात्र हैं या कोचिंग सेंटर में पढ़ाने वाले लोग.

सीबीएसई पेपर लीक मामले की जांच की जद अब झारखंड तक पहुंच गई है. लीक में शामिल होने के आरोप में राज्य से 6 छात्रों को हिरासत में लिया गया है. इन सभी से पूछताछ की जा रही है.

इससे पहले गुरुवार को सीबीएसई प्रमुख अनिता करवाल ने कहा था कि परीक्षा को रद्द कर दोबारा परीक्षा कराने का फैसला छात्रों के हित में ही लिया गया है. वहीं केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भरोसा दिलाया है कि जो भी लोग इसमें शामिल होंगे उन्हें बख्शा नहीं जाएगा.

वहीं इस मामले पर सरकार को घेरते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मानव संसाधन मंत्रालय पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि यह एचआरडी मिनिस्ट्री की फेलियर को दिखा रहा है. 28 लाख छात्रों का भविष्य दांव पर लगा हुआ है. हम इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi