S M L

CBSE पेपर लीक मामला: दोबारा परीक्षा कराए जाने के विरोध में क्यों हैं छात्र?

सीबीएसई द्वारा 12वीं के अर्थशास्त्र और 10वीं के गणित के दोबारा परीक्षा लेने के विरोध में छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Apr 02, 2018 05:12 PM IST

0
CBSE पेपर लीक मामला: दोबारा परीक्षा कराए जाने के विरोध में क्यों हैं छात्र?

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) पेपर लीक मामला अब दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है. सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने जहां सीबीएसई, दिल्ली पुलिस और मानव संसाधन मंत्रालय को इस बारे में नोटिस जारी किया है वहीं सुप्रीम कोर्ट में भी एक जनहित याचिका दाखिल कर मामले की जांच होने तक लीक हुए पेपर की दोबारा परीक्षा पर रोक लगाने की मांग की गई है.

हाईकोर्ट में जहां इस मामले की अगली सुनवाई 16 अप्रैल को होगी वहीं सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई 4 अप्रैल को होने जा रही है.

क्या कहा गया है याचिका में?

सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस की जांच रिपोर्ट अभी तक पूरी नहीं हुई है. अभी भी इस मामले में गिरफ्तारियां चल रही हैं. दिल्ली पुलिस की जांच रिपोर्ट के बिना ही सरकार ने 10वीं के गणित और 12वीं के अर्थशास्त्र का पेपर दोबारा कराने का फैसला किया है, जो सही नहीं है.

इस जनहित याचिका में कहा गया है कि मानव संसाधन मंत्रालय और सीबीएसई को समय रहते पेपर लीक की जानकारी हो गई थी. इसके बावजूद 26 मार्च को 12वीं के अर्थशास्त्र के पेपर की परीक्षा ली गई.

जब मामला बढ़ने लगा तो सीबीएसई ने 28 मार्च को दिल्ली पुलिस को जांच के लिए कह दिया. अब जब मामले की जांच चल रही है तो रिपोर्ट आने से पहले ही सीबीएसई ने कैसे दोबारा परीक्षा की घोषणा कर दी?

दूसरी तरफ सीबीएसई पेपर लीक मामले में गिरफ्तार लोगों से लगातार पूछताछ चल रही है. इस रैकेट में शामिल लोगों के खिलाफ लगातार शिकंजा कसता जा रहा है. झारखंड से लेकर दिल्ली तक गिरफ्तारियों का दौर चल रहा है.

दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार तीन लोगों की निशानदेही पर दिल्ली-एनसीआर में लगातार दबिश दे रही है. दिल्ली पुलिस की शुरुआती पूछताछ में यह बात निकल कर सामने आई है कि तीनों गिरफ्तार लोगों का सीबीएसई के किसी भी अधिकारी से किसी भी तरह का कोई सांठगांठ नहीं है.

New Delhi: Police show a coaching centre owner and two teachers who were arrested on suspicion of their involvement in circulating the leaked CBSE question papers on social media groups, in New Delhi on Sunday. PTI Photo by Arun Sharma (PTI4_1_2018_000030B)

पुलिस द्वारा गिरफ्तार आरोपी

दिल्ली पुलिस ने रविवार को बवाना के दो स्कूल टीचरों ऋषभ और रोहित को गिरफ्तार किया था. साथ ही एक प्राइवेट कोचिंग संस्थान के मालिक तौकिर को भी गिरफ्तार किया था.

तीनों गिरफ्तार शख्स से सीबीएसई से निलंबित अधिकारी केएस राणा से संबंधों के बारे में भी पूछताछ की गई है. तीनों ने राणा से किसी भी संबंध से इनकार किया है. केएस राणा को सीबीएसई ने एग्जाम सेंटर में लापरवाही बरतने के आरोप में सस्पेंड किया है.

पुलिस कर चुकी है दो एफआईआर

दिल्ली पुलिस सीबीएसई पेपर लीक मामले में अब तक दो एफआईआर दर्ज कर चुकी है. बीते सप्ताह ही सीबीएसई के 12वीं के अर्थशास्त्र और 10वीं की गणित के पेपर लीक होने की खबर व्हाट्सएप पर वायरल हुई थी, जिसमें कई छात्रों ने सीबीएसई से इस बारे में शिकायत दर्ज कराई थी.

सीबीएसई की 12वीं इकोनॉमिक्स और 10वीं मैथ्स का पेपर लीक होने के बाद पूरे देश में बवाल मच गया था. इस मामले को लेकर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच अब तक 60 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है.

यह भी पढ़ें: CBSE पेपर लीक: इस तरह हुआ 40 मिनट के अंदर 12वीं का पेपर लीक

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने अपने शुरुआती जांच में दिल्ली के राजेंद्र नगर में मौजूद एक कोचिंग संस्थान के मालिक से कई दौर की पूछताछ की थी. दिल्ली पुलिस को शुरुआती जांच में पता चला था कि पेपर लीक मामले में कम से कम एक हजार छात्रों को प्रश्न पत्र मिले थे.

दूसरी तरफ देश के दूसरे राज्यों से भी पेपर लीक मामले के तार जुड़ने की बात सामने आ रही है. सीबीएसई प्रश्न पत्र लीक मामले के तार झारखंड के चतरा से भी जुड़ गए हैं. चतरा पुलिस ने इस मामले में 9 लोगों को गिरफ्तार किया है. झारखंड पुलिस की टीम जवाहर नवोदय विद्यालय के शिक्षकों से भी पूछताछ कर रही है और संदिग्ध कोचिंग संस्थानों पर भी नजर रख रही है. झारखंड पुलिस ये मालूम करना चाहती है कि इनके तार झारखंड से बाहर कहां तक जुड़े हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi