Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

UGC NET EXAM 2018: बढ़ी JRF की उम्र सीमा, परीक्षा 8 जुलाई को, ऐसे करें आवेदन

यूजीसी नेट के लिए उम्मीदवार 6 मार्च 2018 से ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे, आवेदन करने की आखिरी तरीख 5 अप्रैल 2018 है

FP Staff Updated On: Feb 13, 2018 03:26 PM IST

0
UGC NET EXAM 2018: बढ़ी JRF की उम्र सीमा, परीक्षा 8 जुलाई को, ऐसे करें आवेदन

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) आठ जुलाई को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा का आयोजन करेगा और इसके तहत जूनियर रिसर्च फेलोशिप में सम्मिलित होने के लिए अधिकतम आयु सीमा दो साल बढ़ा दी गई है.

सीबीएसई के एक अधिकारी ने ‘भाषा’ को बताया कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (यूजीसी नेट) के लिए उम्मीदवार 6 मार्च 2018 से ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे. ऑनलाइन आवेदन करने की आखिरी तरीख 5 अप्रैल 2018 है और शुल्क का भुगतान 6 अप्रैल 2018 तक किया जा सकेगा.

आवेदन करने के लिए और UGC-NET की परीक्षा से जुड़ी सभी जानकारियों जैसे सिलेबस आदि की जानकारी के लिए इच्छुक आवेदनकर्ता सीबीएसई की वेबसाइट http://cbsenet.nic.in पर जाकर पूरा विवरण जान सकते हैं. आवेदन करने के लिए भी इसी वेबसाइट पर जाना होगा.

यूजीसी नेट के तहत जूनियर रिसर्च फेलोशिप (जेआरएफ) में सम्मिलित होने के लिये अधिकतम आयु सीमा दो साल बढ़ा दी गई है, अर्थात् वर्तमान उच्च आयु सीमा को 28 वर्ष से बढ़ाकर 30 वर्ष कर दिया गया है. हालांकि नेट की परीक्षा में बैठने और पात्रता के लिए कोई अधिकतम उम्र सीमा नहीं होती है. नेट पास करने वाले स्टूडेंट किसी भी विश्वविद्यालय या आयोग द्वारा निकाली जाने वाली अस्सिटेंट प्रोफेसर की नियुक्ति के लिए योग्य होते हैं.

अब तीन की जगह होंगे दो पेपर

अस्सिटेंट प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च फोलोशिप की पात्रता के लिए आयोजित होने वाले यूजीसी नेट की संशोधित स्कीम के अनुसार परीक्षा में दो पत्र होंगे. इसमें पहला पत्र 100 अंकों का होगा जिसमें 50 प्रश्न पूछे जाएंगे और सभी प्रश्न अनिवार्य होंगे. दूसरा पत्र 200 अंकों का होगा जिसमें 100 प्रश्न होंगे और सभी प्रश्न अनिवार्य होंगे.

प्रश्नपत्र प्रथम में 50 वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे और प्रत्येक प्रश्न दो अंकों के होंगे. ये प्रश्न सामान्य प्रकृति के होंगे जिनका उद्देश्य उम्मीदवारों की शिक्षण और अनुसंधान अभिरुचि का निर्धारण करना है  यह मूल रूप से उम्मीदवारों की तार्किक क्षमता, सोच और सामान्य ज्ञान का परीक्षण करने के लिए तैयार किया गया है .

दूसरे प्रश्नपत्र में उम्मीदवारों द्वारा चयन किए गए विषय पर आधारित 100 वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न होंगे और सभी प्रश्न दो अंकों के होंगे. पहले चयनित विषय में दो पेपर लिए जाते थे. इसकी जगह अब एक ही पेपर होगा.

पहले पेपर और दूसरे पेपर में प्राप्त अंकों के आधार पर ही नेट और JFR पास करने वाले स्टूडेंट्स का निर्धारण होता है. इस बार JRF 30 साल तक के आवेदकों को ही दिया जाएगा. वैसे स्टूडेंट जो JRF के लिए पात्र होंगे और उनका किसी विश्वविद्यालय में एडमिशन नहीं हुआ है, उन्हें रिजल्ट प्रकाशित होने की तारीख से 2 साल के भीतर किसी भी संस्थान में शोध में एडमिशन लेना होगा तभी वे JRF की फेलोशिप ले पाएंगे.

नेट की परीक्षा साल में अमूमन दो बार आयोजित की जाती है. सीबीएसई ने पहले साल में एक बार ही परीक्षा लेने की घोषणा की थी लेकिन छात्रों और छात्र-संगठनों के विरोध के बाद फिर से साल में दो बार परीक्षा ली जा रही है. 2017 में यूजीसी-नेट की परीक्षा नवंबर में हुई थी.

(भाषा से इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi