S M L

आनंदपाल एनकाउंटर की जांच से CBI ने क्यों किया इंकार?

पीड़ित पक्ष के वकील का कहना था कि राजस्थान पुलिस के कई वरिष्ठ अधिकारी खुद ही इस केस में मुल्जिम हैं इसलिए यह जांच सीबीआई से कराई जाए.

Updated On: Nov 16, 2017 11:04 AM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
आनंदपाल एनकाउंटर की जांच से CBI ने क्यों किया इंकार?

सीबीआई ने राजस्थान के चर्चित आनंदपाल एनकाउंटर की जांच करने से इंकार कर दिया है. सीबीआई के इंकार के बाद अब यह साफ हो गया है कि इस केस की जांच राजस्थान पुलिस ही करेगी.

गौरतलब है कि इसी साल जुलाई में राजस्थान पुलिस ने गैंगस्टर आनंदपाल को एक एनकाउंटर में मार गिराया था. आनंदपाल की गिरफ्तारी राजस्थान पुलिस के लिए नाक का सवाल बन गया था. पिछले साल ही आनंदपाल जेल से भागा था. इसी साल जुलाई महीने में आनंदपाल एनकाउंटर की जांच सीबीआई से कराने को लेकर राजस्थान में कई दिनों तक बवाल कटा था. प्रशासन ने लगभग 17 हजार लोगों के खिलाफ हिंसा फैलाने का मामला दर्ज किया था. कई राजपूत नेताओं को गिरफ्तार भी किया गया था.

एनकाउंटर के 20वें दिन हुआ अंतिम संस्कार

आनंदपाल राजपूत बिरादरी से आता था. राजपूतों में आनंदपाल की छवि रॉबिन-हुड वाली थी. राजपूत समाज के कुछ लोग और आनंदपाल के परिवारवालों ने एनकाउंटर के कई दिनों तक शव का अंतिम संस्कार नहीं होने दिया.

ये भी पढ़ें: राजस्थान: वो कौन लोग हैं जो गैंगस्टर आनंदपाल को बता रहे हैं भगवान?

आनंदपाल के परिवारवालों और राजपूत समाज के कुछ लोगों की मांग थी कि एनकाउंटर की जांच जब तक सीबीआई से नहीं कराई जाएगी, तब तक आनंदपाल के शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा. राजस्थान की वसुंधरा राजे की सरकार ने किसी झमेले में पड़ने से बचने के लिए इस एनकाउंटर की जांच की सिफारिश सीबीआई के पास भेज दी.

पत्नी ने की सीबीआई जांच की मांग

सीबीआई की तरफ से काफी दिनों तक जब कोई जवाब नहीं मिला तो आनंदपाल की पत्नी ने सीबीआई जांच के लिए अदालत का रुख किया. आनंदपाल की पत्नी ने सबसे पहले सीबीआई जांच में देरी को लेकर राजस्थान के चूरू जिला सत्र न्यायालय में एक याचिका दायर की थी. जिला सत्र न्यायालय ने इस याचिका को खारिज कर दिया, जिसके बाद आनंदपाल की पत्नी ने राजस्थान हाईकोर्ट का रुख किया.

सीबीआई जांच के मुद्दे पर राजस्थान हाईकोर्ट में बुधवार को सुनवाई हुई. इस सुनवाई में सीबीआई के वकील ने हाईकोर्ट को बताया कि सीबीआई आनंदपाल एनकाउंटर की जांच के लिए तैयार नहीं है. बुधवार को इस याचिका की सुनवाई के दौरान सीबीआई के वकील का कहना था कि चूरू के रतनगढ़ थाने में दर्ज एफआईआर की जांच में यह पाया गया कि यह अनुसंधान सीबीआई की जांच के योग्य नहीं है.

आनंदपाल सिंह के राज्य सरकार के मंत्रियों से संबंध बताए जा रहे हैं

राजस्थान पुलिस के तहत जांच पर अंदेशा

गौरतलब है कि आनंदपाल के परिवारवाले और राजपूत समाज का एक वर्ग इस एनकाउंटर को फर्जी मान रहा है. इसी को लेकर आनंदपाल की पत्नी के तरफ से हाईकोर्ट में दायर याचिका में सीबीआई जांच में देरी को लेकर सवाल खड़ा किया गया था.

ये भी पढ़ें: इंटरनेट बैन: क्या राजस्थान बन रहा है दूसरा जम्मू-कश्मीर!

हाईकोर्ट ने पिछले 27 अक्टूबर को इस मामले में देरी को लेकर सीबीआई को नोटिस जारी किया था. हाईकोर्ट ने सीबीआई को नोटिस जारी करने से पहले राज्य सरकार से भी 15 दिन पहले सवाल-जवाब किया था.

इस एनकाउंटर को लेकर राजस्थान पुलिस पर कई आरोप लगे थे. पीड़ित पक्ष के वकील का कहना था कि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का ठीक से पालन नहीं किया गया. क्योंकि राजस्थान पुलिस के कई वरिष्ठ अधिकारी खुद ही इस केस में मुल्जिम हैं इसलिए यह जांच सीबीआई से कराई जाए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi