S M L

नए साल के पहले सीबीआई डायरेक्टर की तलाश होगी पूरी?

सीबीआई के नए निदेशक के लिए सतीश माथुर का नाम सबसे आगे है.

Updated On: Dec 26, 2016 10:38 AM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
नए साल के पहले सीबीआई डायरेक्टर की तलाश होगी पूरी?

देश को नए साल से पहले एक स्थायी सीबीआई निदेशक मिल सकता है. सीबीआई के नए निदेशक की चयन के लिए सोमवार को कॉलेजिएम की बैठक होने की संभावना है. सीबीआई डायरेक्टर की चयन वाली कॉलेजिएम में देश के प्रधानमंत्री, नेता प्रतिपक्ष और सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश शामिल होते हैं. देश में लोकपाल कानून लागू होने के बाद सीबीआई डायरेक्टर का चयन एक कॉलेजिएम करती है.

सोमवार को होने वाली कॉलेजिएम की संभावित मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश टी एस ठाकुर और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे होंगे.

हम आपको बता दें कि 2 दिसंबर से सीबीआई निदेशक का पद खाली है. सरकार ने 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को बतौर इंचार्ज डायरेक्टर बनाया है.

राकेश अस्थाना की नियुक्ति पर सवाल

राकेश अस्थाना को इंचार्ज डायरेक्टर बनाने से कुछ घंटे पहले सरकार ने सीबीआई में नंबर 2 रहे विशेष निदेशक आर के दत्ता को गृह मंत्रालय भेज दिया था. आर के दत्ता को गृहमंत्रालय में भेजे जाने पर विवाद शुरू हो गया था. वरिष्ठता क्रम में राकेश अस्थाना आर के दत्ता से नीचे आते हैं.

ये भी पढ़ें: अस्थाना को सीबीआई की कमान, लालू को सताने लौटा चारा घोटाले का बेताल

सुप्रीम कोर्ट का केंद्र सरकार को नोटिस

राकेश अस्थाना के चयन पर सुप्रीम कोर्ट में एक एनजीओ की तरफ से याचिका दाखिल किया है. देश के जाने माने वकील प्रशांत भूषण एनजीओ के वकील हैं.

rakesh asthana_fp

राकेश अस्थाना.

सुप्रीम कोर्ट ने एनजीओ की याचिका पर केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा था. जिसमें राकेश अस्थाना को इंचार्ज डायरेक्टर बनाने की चुनौती दी गई थी.

सुप्रीम कोर्ट के दो जजों की खंडपीठ ने केंद्र सरकार से पूछा था कि आप हमें दो सवालों का जवाब दें कि आखिर आर के दत्ता का कार्यकाल कम कर के ट्रांसफर क्यों किया गया और सीबीआई में इंचार्ज डायरेक्टर कैसे बनाया गया?

कोर्ट की इजाजत के बगैर ट्रांसफर कैसे

सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर रुपक कुमार दत्ता 2जी और कोल मामले की जांच कर रहे थे. सुप्रीम कोर्ट ने अपने पूर्व के आदेश में कहा था कि इन दो मामले की जांच करने वाले अधिकारी का ट्रांसफर करने से पहले सरकार को सुप्रीम कोर्ट से इजाजत लेनी जरूरी है.

एनजीओ की तरफ से प्रशांत भूषण अर्जी में जिक्र किया था कि सीबीआई डायरेक्टर बनाने के लिए नियम तय किए गए हैं. नियम के तहत देश के प्रधानमंत्री, सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष डायरेक्टर का चयन करते हैं, पर नए डायरेक्टर के चयन में अब तक कोई भी बैठक नहीं हुई है. सरकार ने राकेश अस्थाना को इंचार्ज डायरेक्टर बना कर मनमानी की है. इस मामले की अगली सुनवाई 17 जनवरी को होने वाली है.

सतीश माथुर रेस में सबसे आगे

सीबीआई के नए निदेशक की रेस में तो वैसे कई नाम चल रहे हैं, लेकिन नए घटनाक्रम के बाद महाराष्ट्र कैडर के 1981 बैच के आईपीएस अधिकारी सतीश माथुर का नाम सबसे आगे हो गया है. सरकार के विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि सतीश माथुर के नाम पर मुहर लगा दी गई है.

और कई नाम हैं जिन पर विचार किए जाएंगे.

तमिलनाडु कैडर की आईपीएस अधिकारी अर्चना रामसुंदरम और महाराष्ट्र कैडर की आईपीएस अधिकारी मीरा चंद्र बोरवणकर के नाम सीबीआई निदेशक पद की दौड़ में शामिल हैं. इन दो महिला आईपीएएस अधिकारियों के साथ और भी कई नाम हैं, जिन पर विचार किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: देश को मिलेगी पहली महिला सीबीआई डायरेक्टर?

इसके अलावा बिहार कैडर के 1979 बैच के आईपीएस अधिकारी कृष्णा चौधरी भी रेस में हैं. वर्तमान में आईटीबीपी के डायरेक्टर जनरल के तौर पर काम कर रहे हैं. दिल्ली पुलिस कमिश्नर और 1979 बैच के UT कैडर के अधिकारी आलोक वर्मा का नाम भी लिया जा रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi