S M L

CBI Vs CBI: 2 दर्जन से ज्यादा विपक्षी नेताओं पर CBI जांच, इन मामलों पर पड़ेगा असर

सीबीआई विपक्षी पार्टी के नेताओं से जुड़े करीब दो दर्जन मामलों की भी जांच कर रही है

Updated On: Oct 25, 2018 11:25 AM IST

FP Staff

0
CBI Vs CBI: 2 दर्जन से ज्यादा विपक्षी नेताओं पर CBI जांच, इन मामलों पर पड़ेगा असर
Loading...

चुनावों से पहले सीबीआई विवाद की वजह से पूरे देश में हंगामा मचा है. ऐसे में चिंता इस बात की भी है कि जो महत्वपूर्ण मामले सीबीआई के पास हैं, उनका क्या होगा? विजय माल्या, नीरव मोदी मामले की जांच अहम पड़ाव पर है.

इसके अलावा सीबीआई विपक्षी पार्टी के नेताओं से जुड़े करीब दो दर्जन मामलों की भी जांच कर रही है. इन मामलों में भ्रष्टाचार से जुड़े मामले हैं, जिनमें हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह, हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा का नाम भी शामिल है.

उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत भी स्टिंग ऑपरेशन मामले में सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं. आरजेडी प्रमुख लालू यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव पर आईआरसीटी स्कैम में जांच चल रही है. वहीं दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र कुमार जैन पर भी भ्रष्टाचार के मामले में जांच रही है.

सीबीआई ने बीते चार सालों में उनकी संपत्तियों पर छापे मारे हैं, पूछताछ की है और क्रिमिनल केस दर्ज किए हैं. यह केस आईपीएस अधिकारियों के सुपरविजन में हैं, जोकि गुजरात कैडर के हैं और 2014-17 में डेपुटेशन पर आए थे.

टीएमसी के कई नेता जिनमें सुदीप बंधोपाध्याय शामिल हैं, को भी शारदा स्कैम, रोज वैली चिट फंड स्कैम और नारदा स्टिंग ऑपरेशन केस में जांच के दायरे में लिया गया है. आईएनएक्स मीडिया केस में कार्ति चिदंबरम और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम पर भ्रष्टाचार मामले की जांच चल रही है. आम आदमी पार्टी के कई नेताओं से सीबीआई पूछताछ कर रही है.

गौरतलब है कि आलोक वर्मा के सीबीआई निदेशक के रूप में पद ग्रहण करने से पहले जून 2016 में एक एसआईटी की स्थापना की गई थी, जिसका मकसद राजनेताओं से जुड़े भ्रष्टाचार के मामलों की जांच करना था. इस एसआईटी का नेतृत्व तत्कालीन अतिरिक्त निदेशक राकेश अस्थाना ने किया था.

एसआईटी को सबसे पहले 6 केस सौंपे गए थे, जिनमें अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला, विजय माल्या केस, राजस्थान में एंबुलेंस स्कैम जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट और कार्ति आरोपी थे.

सीबीआई उत्तर प्रदेश के राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन घोटाले की जांच कर रही है, जिसमें कथित तौर पर शीर्ष बीएसपी नेताओं पर आरोप लगाए गए हैं और इस मामले में मायावती से भी पूछताछ की गई है.

2015 में सीबीआई ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव राजेंद्र कुमार के कार्यालय पर छापा मारा था. सीबीआई निलंबित यूपी इंजीनियर यादव सिंह के एसपी नेता राम गोपाल यादव के परिवार के कथित लिंक की भी जांच कर रही है.

सीबीआई ने वाईएसआर प्रमुख जगन रेड्डी के खिलाफ 11 आरोपपत्र दायर किए हैं. इसके अलावा एजेंसी ने हाल ही में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में भी रिपोर्ट तैयार की है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi