S M L

मुजफ्फरपुर: CBI की चार्जशीट में दावा- बच्चियों को अश्लील डांस करने को मजबूर करती थी शाइस्ता परवीन

सीबीआई की ओर से दाखिल चार्जशीट से यह भी खुलासा हुआ है कि मधु इससे मना करने वाली लड़कियों को सजा के तौर पर नमक रोटी खाने को देती थी

Updated On: Jan 07, 2019 09:18 PM IST

FP Staff

0
मुजफ्फरपुर: CBI की चार्जशीट में दावा- बच्चियों को अश्लील डांस करने को मजबूर करती थी शाइस्ता परवीन

बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में बीते 19 दिसंबर को सीबीआई ने जो चार्जशीट दायर की है उसमें ब्रजेश ठाकुर के बाद अगर किसी पर सबसे बड़ा आरोप है तो वह है मधु. आरोप पत्र में यह साफ कहा गया है कि शाइस्ता परवीन उर्फ मधु ब्रजेश ठाकुर की खास राजदार थी और एनजीओ सेवा संकल्प और विकास समिति के प्रबंधन से जुड़ी थी.

यह लड़कियों को सेक्स की शिक्षा देती थी और अश्लील गाने पर डांस करने को विवश करती थी. आपको बता दें कि ‘सेवा संकल्प एवं विकास समिति’ वही आश्रय गृह है जहां रहने वाली लड़कियों का यौन शोषण हुआ है.

शाइस्ता परवीन उर्फ मधु इतनी क्रूर है कि वह बालिका गृह की नाबालिग बच्चियों को भोजपुरी गाना 'जब मैं आयी सुहाग वाली रतिया' जैसे अश्लील गानों पर नचाती थी. सीबीआई की ओर से दाखिल चार्जशीट से यह भी खुलासा हुआ है कि मधु इससे मना करने वाली लड़कियों को सजा के तौर पर नमक रोटी खाने को देती थी, और जो डांस करती थी उसे बेहतर खाना मिलता था.

दरअसल ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु सेवा संकल्प एवं विकास समिति के कार्यों को मैनेज करती थी. किशोरियों को सेक्स की शिक्षा देती थी और इसके लिए धमकियां भी देती थी. ब्रजेश ठाकुर ने अपने शहर के समुदाय आधारित संगठन वामा शक्ति वाहिनी की कमान मधु को दे रखी थी. मधु के माध्यम से ब्रजेश ठाकुर ने कई एनजीओ खोला और समाज कल्याण विभाग में अपनी पैठ बनाई. बाद में दोनों ने मिलकर बालिका सुधार गृह खोला और कई तरह के गैरकानूनी कामों को अंजाम दिया.

आपको बता दें कि मधु को पहले शाइस्ता के नाम से जाना जाता था. वह बिहार के मुजफ्फरपुर के रेडलाइट इलाके चतुर्भुज स्थान की निवासी थी और कुछ साल पहले ठाकुर के संपर्क में आई थी. दरअसल रेड लाइट इलाके से छुड़ाई गईं लड़कियों के पुनर्वास के लिए एक अभियान चलाया गया था, इसके बाद वह ब्रजेश ठाकुर के करीब आई थी.

(न्यूज18 के लिए प्रवीण ठाकुर की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें: गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण: नाराज सवर्णों को रिझाने का दांव कितना कारगर साबित होगा?

ये भी पढ़ें: कौन हैं संघप्रिय गौतम और लोकसभा चुनाव से ठीक पहले उनके इस बयान का क्या मतलब है?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi