S M L

बर्खास्त सचिव को फिर से बहाल करे एमसीआई: कैट

अधिकरण की प्रधान पीठ ने चिकित्सकीय नियामक इकाई पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया

Updated On: Nov 17, 2017 05:55 PM IST

Bhasha

0
बर्खास्त सचिव को फिर से बहाल करे एमसीआई: कैट

केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण (कैट) ने भारतीय चिकत्सा परिषद् से उसके द्वारा बर्खास्त की गई सचिव की फिर से बहाल करने को कहा है.

अधिकरण ने कहा है कि परिषद् द्वारा बर्खास्तगी के लिए दिया गया ये आदेश उन्हें हटाने के वास्तविक कारण की बजाए एक 'चाल' लगती है.

अधिकरण की प्रधान पीठ ने चिकित्सकीय नियामक इकाई पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया और कहा कि साल 2012 में पूर्व सचिव संगीता शर्मा को बर्खास्त करने का आदेश पूरी तरह से गैरकानूनी, निराधार और प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों का उल्लघंन करने वाला था'.

पूर्व सचिव संगीता शर्मा को 30 मार्च 2012 को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से सहमति मिलने के बाद एमसीआई के नियंत्रक मंडल द्वारा बर्खास्त कर दिया गया था.

योग्यता के मापदंडों को पूरा नहीं करती

सचिव को बर्खास्त करने के लिए उनकी नियुक्ति के संबंध में की गई एक जांच को आधार बनाया गया और कहा गया है कि इसमें नियमों का उल्लंघन हुआ है क्योंकि वे योग्यता के मापदंडों को पूरा नहीं करती हैं और उनपर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगे हैं.

उन्होंने बर्खास्त होने से पहले परिषद् के नियंत्रक मंडल पर सख्त व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे दिया था लेकिन मंडल द्वारा कार्य के लिए अच्छा वातावरण उपलब्ध कराने के आश्वासन के बाद उन्होंने इस्तीफा वापस ले लिया था.

जस्टिस प्रमोद कोहली की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, 'क्योंकि आवेदक की बर्खास्तगी प्रतिवादी संख्या दो (केंद्र) के पत्र के परिणामस्वरूप की गई है, इसलिए नियुक्ति के नियम व शर्तों के आधार पर उनकी सेवा को बर्खास्त करने वाला यह विवादित आदेश केवल एक चाल लगती है और वास्तविक कारण नहीं है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi