S M L

भगोड़े चोकसी को भारत लाने की तैयारी शुरू, मदद में उतरी एंटीगा सरकार

कैरिबियन सरकार का आश्वासन भारत के लिए काफी अहम माना जा रहा है क्योंकि डिपोर्ट की प्रक्रिया शुरू होते ही चोकसी का कानून से भागने का सिलसिला थम जाएगा

Updated On: Aug 05, 2018 11:24 AM IST

FP Staff

0
भगोड़े चोकसी को भारत लाने की तैयारी शुरू, मदद में उतरी एंटीगा सरकार

कैरिबियन आइलैंड की सरकार ने मान लिया है कि भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी उनके देश में है. सरकार ने चोकसी को भारत भेजने के लिए हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया है.

कैरिबियन सरकार का यह आश्वासन भारत के लिए काफी अहम माना जा रहा है क्योंकि डिपोर्ट की प्रक्रिया शुरू होते ही चोकसी का कानून से भागने का सिलसिला थम जाएगा.

शुक्रवार रात भारत सरकार ने एंटीगा और बारबुडा सरकार को चोकसी के प्रत्यर्पण का आग्रह पत्र सौंप दिया. इसके साथ ही भगोड़े कारोबारी चोकसी को भारत लाने की प्रक्रिया शुरू हो गई. प्रत्यर्पण का आग्रह पत्र विदेश मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव मनप्रीत वोरा ने एंटीगा और बारबुडा के विदेश मंत्री पॉल ग्रीन को सौंपा.

मुंबई मिरर के साथ फोन पर एक खास बातचीत में ग्रीन ने कहा, कानूनी तौर पर जितना संभव हो सकेगा हमारी सरकार भारत राष्ट्र राज्य की मदद करेगी.

पहले इस बात की आशंका जताई जा रही थी कि कैरिबियाई देशों के साथ भारत सरकार की प्रत्यर्पण संधि है या नहीं क्योंकि इस सूरत में चोकसी को भारत ला पाना मुमकिन नहीं है. शुक्रवार को कैरिबियन सरकार ने इन आशंकाओं को खारिज कर दिया और बताया कि सन 2000 में ही भारत के साथ ऐसी संधि पर हस्ताक्षर हो गया था. ऐसे में चोकसी को भारत लाने में किसी प्रकार की बाधा आड़े नहीं आएगी.

तो क्या चोकसी का प्रत्यर्पण बहुत जल्द होने वाला है? इस पर भारत सरकार के एक सूत्र ने प्रत्यर्पण के लंबे दिनों तक खिंचे जाने की संभावना जताई. सूत्र ने कहा, चोकसी चूंकि कानूनी प्रक्रियाओं का सहारा ले रहा है इसलिए माल्या की तरह उसके प्रत्यर्पण में भी वक्त लग सकता है. चोकसी ने एंटीगा की सबसे चर्चित कानूनी फर्म डेविड डॉरसेटो ऑफ वॉट डॉरसेटो एसोसिएट्स को अपना मुकदमा सौंपा है.

एंटीगा में फिलहाल त्योहार का सीजन चल रहा है जिस कारण ज्यादातर सरकारी दफ्तर बंद हैं. प्रत्यर्पण में देरी का एक कारण यह भी है कि चोकसी वहां का नागरिक है इसलिए बिना किसी पुख्ता प्रमाण के उसपर पाबंदियां नहीं थोपी जा सकतीं. इंटरपोल का नोटिस ही कोई बहुत बड़ी कार्रवाई करा सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi