S M L

सीएजी ने रेलवे के खातों में गंभीर गलतियों का जिक्र किया

2010-11 से 2014-15 के दौरान सीएजी ने रेलवे के खातों में गलत वर्गीकरण के कई मामले पाए हैं

Bhasha Updated On: Mar 12, 2017 09:35 PM IST

0
सीएजी ने रेलवे के खातों में गंभीर गलतियों का जिक्र किया

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने रेलवे के लेखा अधिकारियों की ओर से ‘गंभीर खामियों’ का जिक्र किया है. इस वजह से रेलवे के लेखा-जोखा में गलत वर्गीकरण और दूसरी गलतियों के कई मामले सामने आए हैं.

रेलवे द्वारा इन गलतियों को सुधारने के कई बार भरोसा देने के बाद भी सीएजी ने 2010-11 से 2014-15 के दौरान उसके खातों में गलत वर्गीकरण के कई मामले पाए हैं.

गलत वर्गीकरण से मतलब गलत मद में आमदनी या खर्च वर्गीकरण से है. लेखों में गलतियों में लेनदेन का लेखा नहीं करना, खातों में देरी से समायोजना और कुछ गैर अधिकृत मदों को दर्शाना है.

अपनी ताजा रिपोर्ट में सीएजी ने लोक लेखा समिति (पीएसी) का भी जिक्र किया है जिसमें बार-बार इन गलतियों पर आपत्ति जताई गई है.

पीएसी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए सीएजी ने कहा कि, 'रेलवे को गलत वर्गीकरण के मामलों को नीचे लाने के लिए तंत्र बनाया चाहिए, क्योंकि यह न केवल लेखा प्रणाली में खामियां को दर्शाते हैं बल्कि लेखा अधिकारियों की ओर से गंभीर लापरवाही को भी दिखाते हैं.'

समीक्षा के दौरान सीएजी ने खर्च की गलत गणना के 64 मामलों का जिक्र किया है. इन मामलों में 53.47 करोड़ रुपए की राशि शामिल है. जिसे रेलवे ने स्वीकार भी किया है. इसी तरह 11 जोनल रेलवे द्वारा 66 अनियमित समायोजन के मामले भी सामने आए हैं. इनमें 1,431.05 करोड़ रुपए की राशि शामिल है. रेलवे ने इसे भी माना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Social Media Star में इस बार Rajkumar Rao और Bhuvan Bam

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi