S M L

अगले 15 दिन में नीचे आएंगे टमाटर के दाम

फिलहाल टमाटर 100 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बिक रहे हैं

Updated On: Jul 30, 2017 05:05 PM IST

Bhasha

0
अगले 15 दिन में नीचे आएंगे टमाटर के दाम

दक्षिणी और अन्य उत्पादक राज्यों से आपूर्ति बढ़ने से टमाटर के दाम अगले 15 दिन में नीचे आ जाएंगे. भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह राय व्यक्त की है.

इस समय टमाटर 100 रुपए प्रति किलो की ऊंचाई पर पहुंच चुका है. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के अनुसार देश के ज्यादातर हिस्सों में टमाटर की कीमत एक महीने से ज्यादा समय से आसमान पर पहुंच चुकी है. कई स्थानों पर टमाटर का खुदरा भाव करीब 100 रुपए प्रति किलो की ऊंचाई पर चल रहा है.

मंत्रालय के 29 जून तक आंकड़ों के अनुसार महानगरों की बात की जाए तो दिल्ली में यह 92 रुपए किलोग्राम पर है. कोलकाता में 95 रुपए, मुंबई में 80 रुपए और चेन्नई में 55 रुपए प्रति किलोग्राम के भाव बिक रहा है. अन्य शहरों में लखनऊ में यह 95 रुपए, भोपाल में और तिरुवनंतपुरम में 90 रुपए, अहमदाबाद में 65 रुपए, जयपुर में 60 रुपए, पटना में 60 रुपए और हैदराबाद में 55 रुपए प्रति किलोग्राम की ऊंचाई को छू चुका था. उत्पादक क्षेत्रों में भी टमाटर काफी महंगा बिक रहा है. शिमला में यह 83 रुपए और बेंगलुरु में 75 रुपए किलोग्राम तक बिक रहा है. किस्म और गुणवत्ता के आधार पर इसकी कीमतों में अंतर हो सकता है.

मध्यप्रदेश और राजस्थान में बारिश से टमाटर की फसल को नुकसान पहुंचा है

आईसीएआर के उप महानिदेशक ए के सिंह ने बताया, ‘मेरा व्यक्तिगत तौर पर आंकलन है कि दक्षिणी राज्यों और अन्य उत्पादक क्षेत्रों से आपूर्ति बढ़ने से अगले 15 दिन में टमाटर के दाम नीचे आएंगे.’ बारिश कम होने के बाद आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और यहां तक कि महाराष्ट्र से आपूर्ति सुधरेगी और कीमतों पर दबाव कम होगा.

सिंह ने बताया कि मध्य प्रदेश और राजस्थान तथा अन्य उत्पादक राज्यों में भारी बारिश से टमाटर की फसल को कुछ नुकसान पहुंचा है. साथ ही परिवहन संबंधी मुद्दों की वजह से काटी जा चुकी फसल को भी समय पर बाजार पहुंचाने में मुश्किलें आ रही हैं. उन्होंने कहा कि इसके अलावा मंडियों में उपज को पहुंचाने की लागत भी बढ़ रही है क्योंकि बारिश और बाढ़ की वजह से इसमें सामान्य से ज्यादा समय लग रहा है.

दिल्ली के टमाटर मर्चेंट एसोसिएशन के अशोक कौशिक ने कहा कि अधिक समय लगने की वजह से परिवहन की लागत बढ़ चुकी है. आपूर्ति में अगले दो सप्ताह में सुधार की उम्मीद है. सरकार ने फसल वर्ष 2016-17 :जुलाई से जून: में देश का कुल टमाटर उत्पादन 15 प्रतिशत अधिक यानी 187 लाख टन रहने का अनुमान लगाया है. लेकिन इस बात की संभावना है कि मौजूदा नुकसान के आकलन के बाद इन आंकड़ों में संशोधन किया जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi