S M L

बुराड़ी मौत मामला: रजिस्टर में यह भी लिखा कि कौन, कहां और किस दिन लटकेगा

10 लोगों के शव 3-3 के बैच में मिले हैं. जबकि एक का शव ग्रिल से लटका मिला. नोट में इस बारे में भी लिखा गया कि 'बेबे खड़ी नहीं हो सकती तो अलग कमरे में लेट सकती हैं

FP Staff Updated On: Jul 02, 2018 11:27 AM IST

0
बुराड़ी मौत मामला: रजिस्टर में यह भी लिखा कि कौन, कहां और किस दिन लटकेगा

दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत के मामले की गुत्थी और उलझती जा रही है.

अभी तक जांच की जो दिशा है उसके मुताबिक घर की तलाशी में पुलिस को एक डायरी मिली है जिसके आधार पर इस मामले को अंधविश्वास और तंत्र से जोड़कर देखा जा रहा है. टाइम्स ऑफ इंडिया ने डायरी में लिखी बातें प्रकाशित की हैं. अखबार लिखता है-'पट्टियां अच्छे से बांधनी है...शून्य के अलावा कुछ नहीं दिखना चाहिए..रस्सी के साथ सूती चुन्नियां या साड़ी का प्रयोग करना है..' ये शब्द हैं डायरी के उस पेज के जिसे इस मौत से ठीक दो दिन पहले लिखा गया है.

पुलिस से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, पुलिस को उस घर से दो रजिस्टर बरामद हुए हैं. इन रजिस्टर का 11 लोगों की मौत से सीधा कनेक्शन है. इन रजिस्टर में घर के सदस्यों की मौत का पूरा प्लान लिखा था. इसमें यह तक लिखा था कि कौन किस जगह फांसी पर लटकेगा. पन्ने पर यह भी लिखा गया कि 'सात दिन बाद पूजा लगातार करनी है..थोड़ा लगन और श्रद्धा से..कोई घर में आ जाए तो अगले दिन..गुरुवार या रविवार को चुनें..'

क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक इन रजिस्टरों के शुरुआती पन्नों में इस बात का जिक्र है कि किस शख्स को कहां खड़ा होना है, दरवाजे के पास कौन खड़ा होगा और शव उसी क्रम में लटके मिले हैं.

10 लोगों के शव 3-3 के बैच में मिले हैं. जबकि एक का शव ग्रिल से लटका मिला. नोट में इस बारे में भी लिखा गया कि 'बेबे खड़ी नहीं हो सकती तो अलग कमरे में लेट सकती हैं.'

रजिस्टर के दूसरे पेज पर परिवार के एक सदस्य ने लिखा है-'सबकी सोच एक जैसी होनी चाहिए..पहले से ज्यादा दृढ़ता से...ये करते ही तुम्हारे आगे के काम दृढ़ता से शुरू होंगे..'

रविवार को बुराड़ी के एक ही परिवार के 11 लोग मृत पाए गए. 10 सदस्यों की आंखें और मुंह कपड़ों से बंधे हुए थे और उनके शव झूल रहे थे, जबकि 77 साल की एक महिला फर्श पर मृत पाई गईं. उनकी आंखों और मुंह पर पट्टी नहीं बंधी थी. बच्चों के हाथ-पांव बंधे हुए थे.

वहीं दूसरी तरफ मृतकों के रिश्तेदारों ने इस घटना में 'धार्मिक वजह' होने से इनकार किया. एक रिश्तेदार ने कहा कि 'वे पढ़े-लिखे लोग थे, अंधविश्वासी नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi