S M L

बुलंदशहर हिंसा: पुलिस अफसर सुबोध कुमार की हत्या में सामने आया तीन दोस्तों का एंगल

पुलिस के मुताबिक इन तीन दोस्तों में से ही एक की गोली इंसपेक्टर सुबोध कुमार को लगी थी. उसकी गिरफ्तारी के लिए जाल बिछा दिया गया है

Updated On: Dec 10, 2018 01:43 PM IST

FP Staff

0
बुलंदशहर हिंसा: पुलिस अफसर सुबोध कुमार की हत्या में सामने आया तीन दोस्तों का एंगल

बुलंदशहर हिंसा मामले में एक नया एंगल सामने आ रहा है. बताया जा रहा है कि मामले में इंसपक्टर सुबोध कुमार की हत्या का राज तीन दोस्तों के बीच छुपा हुआ है. एसटीएफ ने इस मामले में तीनों दोस्तों को रडार पर ले लिया है. तीनों को वीडियो फुटेज के आधार पर जांच के घेरे में लिया गया है. तीनों ही चिंगरावठी गांव के रहने वाले हैं और घटना के बाद से ही घर से फरार हैं.

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने बताया कि इन तीन दोस्तों में से ही एक की गोली इंसपेक्टर सुबोध कुमार को लगी थी. उसकी गिरफ्तारी के लिए जाल बिछा दिया गया है. फिलहाल तीनों का मोबाइल बंद है. पुलिस अन्य तरीकों से उन्हें ट्रेस करने में जुटी है.

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जीतू

वहीं दूसरी तरफ बुलंदशहर हिंसा के आरोपी जीतू फौजी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. स्थानीय कोर्ट ने जीतू फौजी को हिरासत में भेजने का आदेश दिया. यूपी के बुलंदशहर में कथित गोहत्‍या के बाद भड़की हिंसा के मामले में आरोपी सेना के जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को शनिवार आधीरात को गिरफ्तार कर लिया गया था.

वहीं न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक कोर्ट से जेल ले जाने के दौरान जीतू फौजी ने पुलिस पर उसके घर में तोड़फोड़ करने के आरोप लगाए. वहीं कहा कि वह भगोड़ा नहीं है, न ही किसी को उसने गोली मारी है.

जीतू फौजी ने कहा, 'मैं वहां पर था लेकिन मैंने ऐसा कुछ नहीं किया है. न ही मैंने किसी को गोली मारी है. जो बोल रहे हैं कि भगोड़ा हूं, मैं कोई भगोड़ा नहीं हूं. मैंने 7 तारीख को हाजिरी रिपोर्ट दी है.'

जीतू फौजी ने यूपी एसटीएफ के सामने कई राज खोले हैं. उसने घटनावाले दिन की पूरी बात एसटीएफ को बताई है. एसटीएफ के मुताबिक जीतू ने पूछताछ में यह स्‍वीकार किया है कि वह घटना के समय भीड़ के साथ मौजूद था. पुलिस जीतू के मोबाइल को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज रही है. हालांकि अभी यह तय नहीं है कि जीतू ने ही इंस्पेक्टर सुबोध कुमार और सुमित को गोली मारी थी और पुलिस के पास अभी तक इसका कोई सीधा सबूत भी नहीं है. फिलहाल उसे आगे की पूछताछ के लिए स्याना थाने लाया गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi