S M L

बुलंदशहर हिंसा: गिरफ्तार जीतू फौजी ने STF को बताई घटना की पूरी सच्चाई, खोले कई राज

जीतू ने पूछताछ में यह स्‍वीकार किया है कि वह घटना के समय भीड़ के साथ मौजूद था, पुलिस जीतू के मोबाइल को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज रही है

Updated On: Dec 09, 2018 11:00 AM IST

FP Staff

0
बुलंदशहर हिंसा: गिरफ्तार जीतू फौजी ने STF को बताई घटना की पूरी सच्चाई, खोले कई राज

यूपी के बुलंदशहर में कथित गोहत्‍या के बाद भड़की हिंसा के मामले में आरोपी सेना के जवान जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को शनिवार आधीरात को गिरफ्तार कर लिया गया है. एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार जीतू फौजी ने यूपी एसटीएफ के सामने कई राज खोले हैं. उसने घटनावाले दिन की पूरी बात एसटीएफ को बताई है. एसटीएफ के मुताबिक जीतू ने पूछताछ में यह स्‍वीकार किया है कि वह घटना के समय भीड़ के साथ मौजूद था. पुलिस जीतू के मोबाइल को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज रही है. हालांकि अभी यह तय नहीं है कि जीतू ने ही इंस्पेक्टर सुबोध कुमार और सुमित को गोली मारी थी और पुलिस के पास अभी तक इसका कोई सीधा सबूत भी नहीं है. फिलहाल उसे आगे की पूछताछ के लिए स्याना थाने लाया गया है.

22 साल का जीतू फौजी 22 राष्ट्रीय राइफल्स का हिस्सा है

एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने बताया कि जीतू ने यह स्‍वीकार किया है कि जब भीड़ इकट्ठा होना शुरू हुई तो वह घटनास्‍थल पर मौजूद था. हालांकि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि उसी ने इंस्‍पेक्‍टर सुबोध कुमार या सुमित को गोली मारी थी. जीतू ने पूछताछ में बताया है कि वह गांववालों के साथ वहां पर गया था लेकिन उसने पुलिस पर पत्‍थरबाजी करने के आरोप को पूरी तरह से खारिज कर दिया है. एसएसपी ने बताया कि जीतू के मोबाइल की फॉरेंसिक जांच होगी. बता दें कि 22 साल का जीतू फौजी 22 राष्ट्रीय राइफल्स का हिस्सा है और वह जम्मू-कश्मीर के सोपोर में तैनात था.

बुलंदशहर में हुई हिंसा के 27 आरोपियों में से एक जीतू भी है

एसएसपी अभिषेक सिंह ने कहा, 'हमने आर्मी के जवान को अरेस्‍ट कर लिया है. उसे सेना ने शनिवार को रात 12 बजकर 50 मिनट पर हमें सौंपा है. उससे प्राथमिक पूछताछ की गई है. उसे बुलंदशहर भेज दिया गया है. उसे न्‍यायिक हिरासत के लिए कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा.' बता दें कि कथित गोकशी को लेकर बुलंदशहर में हुई हिंसा के 27 आरोपियों में से एक जीतू भी है. इस हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह और एक प्रदर्शनकारी सुमित की मौत हुई थी.सूत्रों की मानें तो उस पर आरोप लग रहा है कि उसने ही इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की पिस्टल से उन्हें गोली मारी थी.

जीतू 19 नवंबर को 15 दिनों की छुट्टी पर घर आया था

इससे पहले सेना प्रमुख बिपिन रावत ने शनिवार को कहा था कि अगर जीतू के खिलाफ सबूत होगा, तो उसे पुलिस के सामने पेश किया जाएगा. उन्होंने कहा था, 'अगर कोई सबूत होगा और पुलिस को उस पर शक है तो हम उसे सामने लाएंगे. हम पुलिस की पूरी तरह से मदद कर रहे हैं.' उनके इस बयान के बाद अब सेना ने जीतू को एसटीएफ को सौंप दिया है. इस बीच जीतू के बड़े भाई धर्मेंद्र, जो खुद आर्मी में हैं और फिलहाल पुणे में तैनात हैं, ने दावा किया है कि उनका भाई पूरी तरह से निर्दोष है और उनके पास कई ऐसे सबूत हैं, जिनसे वह जीतू को बेगुनाह साबित कर देंगे. धर्मेंद्र बताते हैं, 'मेरा भाई 2013 में 22 (आरआर) राष्ट्रीय राइफल्स में भर्ती हुआ था. वह 19 नवंबर को 15 दिनों की छुट्टी पर घर आया था. उसे 4 दिसंबर को वापस ज्वाइन करना था.'

जीतू शादीशुदा है और उसका 10 महीने का एक बच्चा भी है

बता दें कि पुलिस के पास जीतू फौजी का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है. उसने इंटर कॉलेज चित्सौना से हाईस्कूल तक पढ़ाई की है. इसके बाद पब्लिक इंटर कॉलेज स्याना से 12वीं की परीक्षा पास की. फिर कुछ समय घनसूरपुर कॉलेज से भी पढ़ा. जीतू की उम्र 24 साल के आसपास बताई जा रही है जो 4 साल पहले ही सेना में भर्ती हुआ था. जीतू शादीशुदा है और उसका 10 महीने का एक बच्चा भी है. यूपी आईजी (क्राइम) एस के भगत ने कहा कि जीतू का नाम स्याना में हिंसा, आगजनी और हत्या के सिलसिले में लिखी गई मूल एफआईआर में आरोपी के तौर पर शामिल है. उधर केबी सिंह को हटाकर प्रभाकर चौधरी को बुलंदशहर का नया एसएसपी बनाया दिया गया है. इसके अलावा स्याना के डीएसपी सत्य प्रकाश शर्मा और चिंगरावटी के चौकी प्रभारी सुरेश कुमार का सीएम के आदेश पर तबादला कर दिया गया है. इस मामले मेंअब तक जीतू को मिलाकर 9 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi