S M L

भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा : BSF ने तीन पाकिस्तानी रेंजरों को किया ढेर

पाकिस्तानी रेंजरों ने बिना किसी उकसावे के जम्मू के पर्गवाल इलाके में गोलीबारी शुरू कर दी. उसके द्वारा दागे गए कम से कम 6 मोर्टार गोले सुंदरबनी सेक्टर के देवरा गांव में आकर फटे

Updated On: Aug 26, 2017 10:14 PM IST

Bhasha

0
भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा : BSF ने तीन पाकिस्तानी रेंजरों को किया ढेर

भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान द्वारा बिना कारण गोलीबारी के जवाब में बीएसएफ ने 3 पाकिस्तानी रेंजरों को मार गिराया है.

पाकिस्तान द्वारा नियंत्रण रेखा पर सीमापार से की जा रही गोलीबारी में अपने एक जवान के घायल होने के एक दिन बाद शनिवार को बीएसएफ ने जवाब कार्रवाई के दौरान कम से कम तीन पाकिस्तानी रेंजरों को मार गिराया है.

बीएसएफ ने कहा कि पाकिस्तानी रेंजर्स ने बिना किसी उकसावे के जम्मू के पर्गवाल इलाके में दोपहर लगभग तीन बजे से गोलीबारी शुरू कर दी. पाकिस्तान की ओर से कम से कम छह मोर्टार गोले दागे गए और वो अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे सुंदरबनी सेक्टर के देवरा गांव में आकर फटे.

बीएसएफ के एक प्रवक्ता ने कहा कि सीमा पार से की गई गोलाबारी का बल ने मुंहतोड़ जवाब दिया. इसमें कम से कम तीन पाकिस्तानी रेंजर मार गिराए गए हैं.

पाकिस्तानी फायरिंग में बीएसएफ के 1 कांस्टेबल घायल हुए थे

शुक्रवार को बीएसएफ के एक कांस्टेबल के अप्पा राव पाकिस्तान रेंजरों की स्नाइपर गोलीबारी के दौरान घायल हो गए थे. राव जब पानी पी रहे थे तभी पाकिस्तानी रेंजरों द्वारा चलाई गई गोली आकर उनके दाहिने कान के नीचे लगी.

घायल कांस्टेबल राव का शुक्रवार रात ऑपरेशन किया गया जिसके बाद उनकी हालत अब स्थिर है.

अधिकारियों ने कहा कि लंबे समय के बाद अंतरराष्ट्रीय सीमा पर दोनों बलों के बीच ऐसी आक्रामक कार्रवाई हुई है. बीएसएफ और पाकिस्तानी रेंजरों के बीच 17 जुलाई को सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास कमांडेंट स्तर की फ्लैग मीटिंग हुई थी जिसमें दोनों पक्षों की ओर से शांति बनाए रखने के प्रति प्रतिबद्धता जताई गई थी.

फ्लैग मीटिंग में दोनों पक्षों ने मामूली मुद्दों के समाधान के लिए जरूरत पड़ने पर फील्ड कमांडरों के बीच तुरंत संवाद कायम करने पर भी सहमति जताई थी।

इस साल पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम के उल्लंघन की घटनाओं में काफी तेजी आई है. आंकड़ों के अनुसार इस साल एक अगस्त तक, पाकिस्तानी सेना द्वारा संघर्ष विराम के उल्लंघन की 285 घटनाएं हुईं. जबकि 2016 में साल भर में कुल 228 ऐसी घटनाएं हुई थीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi