S M L

लैंगिक रूढ़ियों को तोड़ती दक्षिण भारत की पहली महिला टैक्सी ड्राइवर

सेल्वी ने एक इंटरव्यू में कहा, 'मैंने कभी ये नहीं माना कि महिला होने के नाते मैं कुछ भी करने में सक्षम नहीं हूं. अगर कोई व्यक्ति चावल पकाए तो ऐसा नहीं होगा कि चावल ना पके. इसी तरह अगर कोई महिला ड्राइवर सीट पर बैठे तो ऐसा नहीं हो सकता कि कार ना चले.'

Updated On: Dec 14, 2017 09:10 PM IST

Bhasha

0
लैंगिक रूढ़ियों को तोड़ती दक्षिण भारत की पहली महिला टैक्सी ड्राइवर

दक्षिण भारत की पहली महिला टैक्सी ड्राइवर के रूप में मशहूर सेल्वी अपनी जिंदगी में लैंगिक रूढ़ियों को तोड़ती जा रही हैं. उनकी कहानी एक डॉक्यूमेंट्री का हिस्सा है जिसकी समीक्षकों ने भी प्रशंसा की है.

बेंगलुरु की पेशेवर ड्राइवर ने कहा कि महिला होना उनके लिए कभी भी एक बाधा नहीं रही.

सेल्वी ने एक इंटरव्यू में कहा, 'मैंने कभी ये नहीं माना कि महिला होने के नाते मैं कुछ भी करने में सक्षम नहीं हूं. अगर कोई व्यक्ति चावल पकाए तो ऐसा नहीं होगा कि चावल ना पके. इसी तरह अगर कोई महिला ड्राइवर सीट पर बैठे तो ऐसा नहीं हो सकता कि कार ना चले.'

उन्होंने कहा, 'ये इस बारे में है कि आप लिंग आधारित कोई भी सीमाओं और बाधाओं को स्वीकार नहीं करते और अपना शोषण होने से इनकार कर देते हैं. मेरी कहानी अपरंपरागत कौशल को सीखकर अन्याय से लड़ने और इस कौशल को अपनी ज़िंदगी का आधार बनाने की कहानी है.'

चौदह साल की उम्र में शादी करने के लिए मजबूर की गई सेल्वी ने 18 साल की उम्र में इस खराब रिश्ते से बाहर निकलने की हिम्मत जुटाई. वर्ष 2004 में ड्राइविंग सीखते हुए वो कनाडाई डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता एलिसा पलोस्की से मिलीं.

एक घंटे 18 मिनट लंबी फिल्म 'ड्राइविंग विद सेल्वी' में एलिसा ने वर्ष 2004 से 2014 तक सेल्वी के जीवन के बारे में बताया है. सेल्वी ने कहा कि जब वो पीछे मुड़कर देखती हैं तो उन्हें अपनी यात्रा पर भरोसा नहीं होता.

सेल्वी ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में वो अपने आप को लेकर आत्मविश्वासी हो गई हैं और अपनी कहानी को साझा करने से उनकी ज़िंदगी को एक नया मकसद मिल गया है.

फिल्म के निर्माता महिला सशक्तिकरण के लिए भारत में 'सेल्वी बस टूर' का आयोजन कर रहे हैं. पिछले छह हफ्ते में चार राज्यों में 28 स्क्रीनिंग के ज़रिए सेल्वी ने अपनी फिल्म दिखाई और कम से कम 2000 लड़कियों तथा महिलाओं से बातचीत की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi