S M L

भारत के ब्रह्मोस मिसाइल परीक्षण से घबराया चीन

ब्राह्मोस मिसाइल सुखोई-30 फाइटर एयरक्राफ्ट और शिप से भी दागी जा सकती है

Updated On: May 02, 2017 11:34 PM IST

FP Staff

0
भारत के ब्रह्मोस मिसाइल परीक्षण से घबराया चीन

भारतीय सेना ने मंगलवार को जमीन से जमीन पर मार करने वाली ब्राह्मोस मिसाइल के नए आधुनिक वर्जन ब्राह्मोस ब्लॉक- तीन का सफल परीक्षण किया. ये परीक्षण अंडमान एवं निकोबार द्वीप में किया गया. क्रूज मिसाइल के इस परीक्षण को चीन के लिए चुनौती माना जा रहा है.

आज दोपहर किसी वक्त भारतीय सेना ने मोबाइल ऑटोनॉमस लांचर से ब्राह्मोस का परीक्षण किया. जानकारों की मानें तो क्रूज मिसाइल ब्राह्मोस किसी भी प्रकार के खतरनाक हथियारों पर लगाए गए निशाने के अनुसार घातक वार करती है.

अमेरिका की मिसाइल से भी दो गुना तेज है ब्रह्मोस

इसकी एक खासियत ये भी है कि ये किसी भी गतिशील लक्ष्य को आसानी से निशाना बना सकती है. सतह पर मौजूद टॉरगेट को भी नष्ट करने में ये अचूक है. ये किसी भी शक्तिशाली रडार को धोखा देने में भी सक्षम है. ब्राह्मोस मिसाइल अमेरिका की टॉम-हॉक मिसाइल से दो गुना तेज बताई जाती है.

कम ऊंचाई से भी घातक हमला करना इसकी एक बड़ी खासियत है. ये दुनिया की एक ऐसी मिसाइल है जो झुकी हुई और वर्टिकल दोनों ही अवस्था में दागी जा सकती है. ब्राह्मोस के इस नए वर्जन का ये चौथा परीक्षण था.

ब्राह्मोस मिसाइल सुखोई-30 फाइटर एयरक्राफ्ट और शिप से भी दागी जा सकती है.

(साभार: न्यूज़18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi