S M L

कमला मिल्स हादसा: बीएमसी ने 100 अवैध ढांचों को गिराया

नगर निकाय के कम-से-कम 1,000 अधिकारियों और कर्मचारियों ने यह अभियान चलाया. इसमें अवैध ढांचों पर कार्रवाई की गई है

Updated On: Dec 30, 2017 09:24 PM IST

Bhasha

0
कमला मिल्स हादसा: बीएमसी ने 100 अवैध ढांचों को गिराया

बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शनिवार को कम-से-कम 100 रेस्टोरेंट और पब के अवैध ढांचों को गिरा दिया. एक पब में लगी आग में 14 लोगों की मौत के एक दिन बाद ये कार्रवाई की गई है.

एक अधिकारी ने बताया कि बीएमसी ने अभियान चलाते हुए दोपहर तक कम-से-कम 100 रेस्टोरेंट और पबों के अवैध एवं अनधिकृत ढांचों को ध्वस्त कर दिया.

उन्होंने बताया कि नगर निकाय के कम-से-कम 1,000 अधिकारियों और कर्मचारियों ने यह अभियान चलाया.

बीएमसी के एक प्रवक्ता राम दोतोंडे ने बताया, 'मध्य मुंबई के साथ-साथ मलाड और मुलुंड उपनगरीय इलाकों तक के अनधिकृत होटलों और रेस्टोरेंट में कार्रवाई की जा रही है.' अधिकारी ने बताया कि दक्षिण मुंबई के पुलिस मुख्यालय के सामने स्थित लोकप्रिय जाफरान होटल के एक बड़े हिस्से को तोड़ दिया गया.

उन्होंने बताया, 'मुंबई में 24 वार्ड हैं और सभी वार्डों में तीन टीमें रेस्टोरेंट, पब और भोजनालय की जांच कर रही हैं. सभी टीम में दस सदस्य हैं, जिनमें स्वास्थ्य और प्रशासनिक अधिकारी और निरीक्षक शामिल हैं.' दोतोंडे ने बताया कि टीम अनधिकृत ढांचों को देखते ही उसे गिरा दे रहे हैं.

पांच अधिकारी भी हो चुके हैं सस्पेंड

महानगरपालिका प्रशासन ने सभी कर्मियों को ड्यूटी पर रहने को कहा है. कई विभागों के कर्मियों के अवकाश और साप्ताहिक अवकाश को रद्द कर दिया गया है और उन्हें रेस्टोरेंट और पबों की विस्तृत सूची दी गई है, जहां शुरुआती जांच के दौरान उल्लंघन पाये गए थे.

निकाय प्रमुख अजय मेहता ने सभी सहायक नगरपालिका आयुक्तों एवं बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के उपायुक्तों को भेजे अपने संदेश में कहा कि सभी क्षेत्रीय उपायुक्त एवं वार्ड अधिकारियों से अनुरोध किया जाता है कि वे भवन एवं फैक्टरी विभागों के कर्मचारियों, चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी एवं दमकल विभाग के कर्मचारियों को मिलाकर एक टीम का गठन करें.

संदेश में कहा गया है कि यह दल सभी रेस्टोरेंट में अपने संबंधित वार्डों का निरीक्षण करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि वहां आग लगने से बचने के पुख्ता इंतजाम हैं या नहीं.

इसमें कहा गया है कि परिसरों में आग लगने पर बचकर निकलने के लिये मार्ग, सीढ़ियां होनी चाहिएं और यह भी सुनिश्चित होना चाहिए कि यह जगह अतिक्रमण से मुक्त हो.

मुंबई निकाय संस्था ने जी-साउथ वार्ड से संबद्ध कर्मचारियों सहित पांच अधिकारियों को ड्यूटी में लापरवाही बरतने के कारण शुक्रवार को निलंबित कर दिया था.

इस तरह के आरोप लगते रहे हैं कि निकाय के अधिकारी निर्माण से जुड़ी अनियमितताओं और आग से जुड़े सुरक्षा नियमों पर आंखें मूंदे रहते हैं. मुंबई के महापौर विश्वनाथ महादेश्वर ने कहा था कि इस संबंध में जांच के आदेश दे दिये गये हैं और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

निकाय प्रशासन ने इस अग्निकांड के बाद कम-से-कम पांच भोजनालयों के खिलाफ कार्रवाई की है. अग्निशमन विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि वे इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि आग असल में किस कारण से लगी.

इसी बीच एक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि ‘ए एबव’ पब के सह-मालिकों हितेश सांघवी और जिगर सांघवी के खिलाफ शनिवार को लुकआउट नोटिस जारी किया गया है.

इससे पहले शुक्रवार को पुलिस ने सांघवी बंधुओं, एक अन्य सह मालिक अभिजीत मनका और अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया था.

इस भीषण आग में 14 लोगों की जान चली गई थी और 21 लोग जख्मी हो गए थे. मृतकों में खुशबू बंसाली भी थीं, जिनके 29वें जन्मदिन पर वहां पार्टी का आयोजन किया जा रहा था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi