S M L

महाराष्ट्र सरकार को मिला साईं का 'आशीर्वाद', शिरडी ट्रस्ट ने दिया 500 करोड़ का ब्याज रहित लोन

500 करोड़ की यह रकम निलवंडे सिंचाई योजना को पूरा करने के लिए दी जाएगी ताकि अहमदनगर जिले की तहसीलों में पीने के पानी की समस्या का समाधान हो सके

Updated On: Dec 02, 2018 11:37 AM IST

FP Staff

0
महाराष्ट्र सरकार को मिला साईं का 'आशीर्वाद', शिरडी ट्रस्ट ने दिया 500 करोड़ का ब्याज रहित लोन

महाराष्ट्र की देवेंद्र फडणवीस सरकार नकद की कमी से जूझ रही है. ऐसे में उसे एक बहुत बड़ी मदद मिली है. शिरडी के साईबाबा मंदिर ट्रस्ट ने सरकार को 500 करोड़ रुपए का इंट्रेस्ट फ्री लोन देने का फैसला किया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार यह रकम निलवंडे सिंचाई योजना को पूरा करने के लिए दी जाएगी ताकि अहमदनगर जिले की तहसीलों में पीने के पानी की समस्या का समाधान हो सके.

लोन की वापसी के लिए समयसीमा भी तय नहीं की गई है

बता दें कि ट्रस्ट के चेयरपर्सन बीजेपी नेता सुरेश हवारे हैं. उन्होंने राज्य सरकार द्वारा सिंचाई योजना के लिए लोन मांगने पर अनुमति दे दी. खास बात यह है कि इससे पहले किसी सरकारी कॉर्पोरेशन को इतना बड़ा लोन बिना इंट्रेस्ट के नहीं दिया गया है. यहां तक कि लोन की वापसी के लिए समयसीमा भी तय नहीं की गई है. इसी साल फरवरी में सीएम फडणवीस ने एक मीटिंग कर लोन के प्रस्ताव को पारित किया था और रकम जारी करने का निर्देश बीते शनिवार को जारी कर दिया गया.

प्रोजेक्ट की कुल कीमत करीब 1200 करोड़ रुपए है

एक सीनियर अधिकारी से प्राप्त जानकारी के मुताबिक साईंबाबा मंदिर ट्रस्ट और गोदावरी-मराठवाड़ा सिंचाई विकास कॉर्पोरेशन ने इसके लिए सहमति पत्र पर साइन किया है. उन्होंने बताया कि मंदिर के इतिहास में यह एक खास मामला होगा. अधिकारी ने बताया कि यह प्रोजेक्ट लंबे समय से रुका हुआ है. प्रोजेक्ट की कुल कीमत करीब 1200 करोड़ रुपए है और ट्रस्ट इसके लिए 500 करोड़ रुपए देगा.

आने वाले 2 साल में नहर का काम पूरा होने की उम्मीद है

जल संसाधन विभाग इस साल के बजट में 300 करोड़ रुपए का प्रावधान कर चुका है और अगले साल 400 करोड़ रुपए देगा. अधिकारी ने बताया कि आने वाले 2 साल में नहर का काम पूरा होने की उम्मीद है. बता दें कि पिछले साल भी इसी प्रोजेक्ट के लिए 500 करोड़ रुपए सरकार को ट्रस्ट ने देने का फैसला किया था. हालांकि, उस वक्त तय समय के अंदर लोन वापस करने की बात फाइनल हुई थी.

कोपरगांव और शिरडी गांवों को इस प्रोजेक्ट से फायदा होगा

अधिकारी ने बताया कि अहमदनगर जिले के अकोली, संगमनर, राहुरी, कोपरगांव और शिरडी गांवों को इस प्रोजेक्ट से फायदा होगा. ये सभी तहसीलें राजनेता कंट्रोल करते हैं. एनसीपी नेता मधुकर अकोली से हैं, बीजेपी के शिवाजीराओ कार्डिल राहुरी और स्नेहलता कोल्हे कोपरगांव से हैं जबकि विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल शिरडी से हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi