S M L

2019 की तैयारी में जुटी बीजेपी जीत के लिए महायज्ञ करा रही है?

पार्टी के नेता मंत्र-तंत्र से लेकर वो हर रास्ता अपना रहे हैं जिससे अगले साल चुनाव से पहले उनकी हर बाधा दूर हो जाए.

Amitesh Amitesh Updated On: Jan 22, 2018 05:04 PM IST

0
2019 की तैयारी में जुटी बीजेपी जीत के लिए महायज्ञ करा रही है?

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी अभी से ही तैयारियों में जुट गई है. पार्टी इसके लिए हर वो काम कर रही है जिससे अपने पक्ष में माहौल बनाया जा सके. विकास के काम हों या फिर सरकार की दूसरी योजनाएं उसको आम जनता तक पहुंचाने की पूरी तैयारी हो रही है. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह तो लगातार देश भर का भ्रमण कर पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को अभी से ही चुनावी मोड में तैयार होने का निर्देश भी दे रहे हैं.

लेकिन, अब एक कदम आगे बढ़कर पार्टी के राष्ट्रीय सचिव और पूर्वी दिल्ली से सांसद महेश गिरी ने एक महायज्ञ का आयोजन करने का फैसला कर लिया है. इस महायज्ञ का लक्ष्य देश के भीतर और बाहर मौजूद आसुरी शक्तियों का नाश करना है जो लगातार राष्ट्र निर्माण के काम में विरोध पैदा कर रही हैं.

कहने को तो इस महायज्ञ का मकसद राष्ट्र जागरण और धर्म जागरण के काम को बढ़ावा देना ही है. लेकिन देश के भीतर समृद्धि और खुशहाली बहाली से ज्यादा इस यज्ञ से उन शक्तियों की धार कुंद करने की कोशिश है जो इस देश के विकास में बाधा पैदा कर रही हैं.

आयोजनकर्ता सांसद महेश गिरी की बातों से इस महायज्ञ के मकसद की बात साफ झलक जाती है. महेश गिरी कहते हैं, 'वेद वंदना के साथ-साथ राष्ट्र वंदना साथ-साथ चले तो भारत को विश्व गुरु बनने से कोई रोक नहीं सकता.' उनका मानना है कि अब भारत का वैभव फिर से लौटना शुरू हो गया है.

ये भी पढ़ें: जस्टिस लोया की मौत से जुड़े सारे केस सुप्रीम कोर्ट ट्रांसफर, अगली सुनवाई फरवरी में

इस यज्ञ का मकसद बताते हुए महेश गिरी कहते हैं, 'भारत फिर से विश्वगुरु के पद पर विराजमान हो और इस काम में बाधक षड्यंत्रकारी शक्तियां विफल हों इसीलिए इस महायज्ञ का आयोजन हो रहा है.'

तो सवाल उठता है कि वो षड्यंत्रकारी शक्तियां कौन हैं जो भारत को विश्वगुरु के पद पर बैठने से रोकने में लगी हुई हैं. देश के बाहर की शक्तियों का अंदाजा तो लगाया जा सकता है.

लेकिन, देश के भीतर बैठी जिन आसुरी शक्तियों की बात कहकर उनके पराभव के लिए यज्ञ का आयोजन करने की बात बीजेपी सांसद कर रहे हैं, उससे साफ लग रहा है कि मौजूदा वक्त में चल रही व्यवस्था विरोधी लोगों को ही राजनीतिक तौर पर विफल करने के प्रयास के लिए वैदिक मंत्रोच्चार का सहारा लिया जा रहा है.

mahesg giri 1

बीजेपी सांसद महेश गिरी तो मोदी सरकार के अच्छे दिन और अगले लोकसभा चुनाव में बीजेपी की सफलता के लिए कराए जाने वाले इस महायज्ञ को लेकर सवाल पूछने पर मुस्कराभर देते हैं लेकिन, उनकी पार्टी के दूसरे नेता थोड़े खुलकर बोल रहे हैं.

बीजेपी दिल्ली के प्रवक्ता तेजेंदर बग्गा फ़र्स्टपोस्ट से बातचीत के दौरान इस महायज्ञ के बारे में कहते हैं, 'ये देश के राजनीतिक कंसों को हटाने के लिए यज्ञ हो रहा है और इस महायज्ञ से जो सुदर्शन चक्र निकलेगा उससे देश के सभी असुरों का संहार होगा.'

बग्गा की बातों से साफ है कि बीजेपी की तरफ से इस महायज्ञ के आयोजन से बीजेपी की जीत का महामंत्र मिलने वाला है. इस महायज्ञ के मंथन से निकलने वाली शक्ति से अगले लोकसभा चुनाव में राजनीतिक विरोधियों को मात देने की पूरी कोशिश हो रही है.

अगले चैत्र मास के नवरात्र में राजधानी दिल्ली के लालकिला मैदान में इस महायज्ञ का आयोजन किया जाएगा.

सांसद महेश गिरी के मुताबिक, 'मां परांबा भगवती बगलामुखी 108 कुण्डीय राष्ट्र रक्षा महायज्ञ' का आयोजन योगिनी पीठम नाम के ट्रस्ट की तरफ से होगा. खुद सांसद महेश गिरी इस पूरे आयोजन का नेतृत्व कर रहे हैं.

इस महायज्ञ में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों को भी बुलाया गया है. हालांकि बीजेपी सांसद का कहना है कि इस महायज्ञ में दूसरे दलों के भी नेताओं के साथ-साथ देश भर में प्रथम नागरिक से लेकर अंतिम नागरिक तक सबको बुलाया जा रहा है. लेकिन, इस विरोधियों का मात देने के लिए हो रहे इस यज्ञ में विरोधी दलों के नेताओं के आने की संभावना कम ही लग रही है.

कैसा होगा महायज्ञ का कार्यक्रम ?

महायज्ञ चैत्र नवरात्र में रविवार 18 मार्च से रविवार 25 मार्च तक चलेगा. बगलामुखी महायज्ञ में 108 कुंड होगा, जिसमें एक मुख्य सूर्य कुंड होगा. इस महायज्ञ में 1111 ब्राम्हण शामिल होंगे जो 2.25 करोड़ मंत्रों के मंत्रोच्चार के साथ मां बगलामुखी की उपासना करते हुए यज्ञ करेंगे. कोशिश होगी कि सकारात्मक उर्जा का जो प्रवाह निकले उसका प्रवाह देशभर में हो.

इस महायज्ञ में देश भर में हर घर से एक चम्मच घी लाई जाएगी. इसके लिए जल्द ही घी रथ यात्रा देश के अलग-अलग राज्यों में शुरू होगी, जिसमें घी देने वाले परिवारों से घी लेकर उसे एकत्रित कर महायज्ञ में लाया जाएगा. कोशिश देश भर में जनमानस की भावनाओं को इस महायज्ञ से जोड़ने की है.

ये भी पढ़ें: सिसोदिया का खुला खतः केंद्र सरकार ने 2 साल के लिए दिल्ली को ठप कर दिया

इस महायज्ञ में देश के हर गांव से मिट्टी और जल को भी लाने की तैयारी है जिससे देश का हर कोना इस महायज्ञ से जुड़े और इससे होने वाली उर्जा का प्रवाह उन सब गांवों में हो सके. खासतौर से इस महायज्ञ में सीमाओं की रक्षा करने वाले हमारे वीर सैनिकों को भी परोक्ष रूप से जोडने की तैयारी हो रही है, लिहाजा देश की सीमा से भी इस तरह जल और मिट्टी लाने की योजना है. बीजेपी सांसद महेश गिरी के मुताबिक, डोकलाम, पूंछ और वाघा बॉर्डर के अलावा चार धाम की जल-मिट्टी से यज्ञ-कुंड का निर्माण किया जाएगा.

आठ दिन तक चलने वाले इस यज्ञ में संध्या के वक्त सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किया जाएगा. जिसमें वेद-वंदना होगी. इसमें धर्म के साथ-साथ राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत कार्यक्रम की प्रस्तुति होगी.

शंकर महादेवन और कैलाश खेर इस महायज्ञ के लिए थीम सॉन्ग की प्रस्तुति देंगे. जबकि और भी बॉलीवुड के कई कलाकर इस महायज्ञ में शामिल होकर अपनी धार्मिक और राष्ट्रीय भावना से इस महायज्ञ के सांस्कृतिक कार्यक्रम में समां बांधेंगे.

mahesh giri 2

यज्ञ के आठों दिन एक-एक संकल्प लिया जाएगा जिससे देश भर में मौजूद बुराई का खात्मा कर आगे प्रगति के पथ पर चलने की तैयारी होगी. बीजेपी सांसद महेश गिरी ने फर्स्टपोस्ट से बातचीत के दौरान कहा कि आठ दिनों में कई संकल्प लिए जाएंगे जिसमें महिलाओं के सम्मान की रक्षा का संकल्प, संविधान की रक्षा का संकल्प, देश की संपत्ति की रक्षा का संकल्प, आतंकवाद को पनपने नहीं देने का संकल्प, भ्रष्टाचार से देश को आजाद करने के लिए खुद भ्रष्टाचार में नहीं शामिल होने का संकल्प, पर्यावरण की सुरक्षा का संकल्प, स्वच्छ भारत का संकल्प, जातिवाद-संप्रदायवाद से मुक्ति का संकल्प, अपना वोट सुनिश्चित करने का संकल्प शामिल होगा.

लोकसभा चुनाव को लेकर सभी दल अब चुनावी मोड में आने लगे हैं. पांच साल सरकार में रहने के बाद अब बीजेपी को इस बार जनता को पाई-पाई का हिसाब भी देना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले से ही लगातार भ्रष्टाचार मुक्त बेहतर शासन का हवाला देकर जनता के दरबार में सरकार के काम के आधार पर अगले चुनाव में उतरने की तैयारी में हैं. लेकिन, उनकी पार्टी के दूसरे नेता मंत्र-तंत्र से लेकर वो हर रास्ता अपना रहे हैं जिससे अगले साल चुनाव से पहले उनकी हर बाधा दूर हो जाए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi