S M L

बीजेपी सांसद की बेटी असम PCS घोटाले में गिरफ्तार

एपीएससी में नौकरी के लिए नकदी मामले की जांच कर रही डिब्रूगढ़ पुलिस ने एसीएस, एपीएस और सहायक सेवाओं 2016 बैच के 19 अधिकारियों को गिरफ्तार किया है

FP Staff Updated On: Jul 18, 2018 08:34 PM IST

0
बीजेपी सांसद की बेटी असम PCS घोटाले में गिरफ्तार

बुधवार को बीजेपी सांसद आर पी शर्मा की बेटी पल्लवी शर्मा सहित असम सरकार के 19 अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया. 2016 में हुए असम लोक सेवा आयोग (APCS) की परीक्षा में उत्तर पुस्तिका में उनकी हैंडराइटिंग ना मिलने के कारण इन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

गिरफ्तार होने वालों में APS, ACS भी शामिल

एपीएससी में नौकरी के लिए नकदी मामले की जांच कर रही डिब्रूगढ़ पुलिस ने असम सिविल सेवा (एसीएस), असम पुलिस सेवा (एपीएस) और सहायक सेवाओं 2016 बैच के 19 अधिकारियों को समन किया है. इन अधिकारियों के उत्तर पत्र की फॉरेंसिक परीक्षा में गड़बड़ी के संकेत मिलने के बाद उन्हें हैंडराइटिंग टेस्ट में शामिल होने के लिए कहा गया.

डिब्रूगढ़ के पुलिस अधीक्षक गौतम बोरा ने कहा कि 19 अधिकारियों की लेखनी उनकी उत्तर पत्रिका से नहीं मिल रही थी. इसके बाद कराई गई फॉरेंसिक जांच में भी यही चीज साबित हुई. इसके बाद इन तमाम अधिकारियों को गुवाहटी में गिरफ्तार कर लिया गया.

राकेश पाल जब एपीएससी के अध्यक्ष थे उस समय आयोजित परीक्षा में 19 अधिकारियों का चयन हुआ था. पाल और आयोग के तीन अन्य अधिकारियों को नौकरी के बदले नकदी मामले में कथित तौर पर शामिल होने के लिए 2016 में गिरफ्तार किया गया था. पाल ने बताया कि गिरफ्तार अधिकारियों में 13 एसीएस, तीन एपीएस और तीन सहायक सेवाओं के अधिकारी शामिल हैं.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक और जांच अधिकारी सुरजीत सिंह पनेश्वर ने बताया कि तेजपुर से बीजेपी सांसद आर पी शर्मा की बेटी पल्लवी शर्मा एपीएस अधिकारी हैं. जिन्हें गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने इससे पहले पाल, एपीएससी सदस्य समेदुर रहमान और बसंत कुमार डोले के साथ सहायक परीक्षा नियंत्रक पबित्र कैबराता सहित 35 लोगों को गिरफ्तार किया था.

पहले भी 13 अधिकारी किए जा चुके हैं बर्खास्त

इससे पहले असम सरकार ने इस साल 21 जून को राज्य सिविल सेवा के 13 अधिकारियों को नौकरी के बदले नकदी मामले में कथित रूप से शामिल होने के लिए नौकरी से बर्खास्त कर दिया था. बर्खास्त अधिकारी पिछले साल नवंबर में जब प्रोबेशन पर थे उसी वक्त उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. अभी वह गुवाहाटी केंद्रीय कारागार में बंद हैं.

उन पर पाल को रिश्वत देने और सिविल सेवाओं में अनुचित माध्यम का प्रयोग करने के आरोप हैं. बर्खास्त अधिकारियों में कांग्रेस के पूर्व मंत्री नीलमणि सेन डेका के बेटे राजर्षि सेन डेका भी शामिल हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi